डेली करेंट अफेयर्स और GK | 27 मार्च 2020

2020-03-27

1. सरकार ने सैनिटाइज़र की अधिकतम खुदरा कीमत निर्धारित की।

  • हाल ही में केंद्र सरकार ने सैनिटाइज़र की अधिकतम खुदरा कीमत निर्धारित कर दी है।
  • सरकार ने कहा है कि हैंड सैनिटाइज़र की 200 मिली लीटर की बोतल की खुदरा कीमत 100 रुपये से अधिक नहीं होगी।
  • साथ ही केंद्र सरकार ने डिस्टिलरीज और चीनी मिलों को हैंड सैनिटाइज़र का अधिकतम निर्माण करने के लिए कहा है।
  • सरकार ने नोवेल कोरोनावायरस से निपटने के लिए लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए यह सभी कदम उठाए हैं।
  • अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP):
    • अधिकतम खुदरा मूल्य, एक उच्चतम मूल्य है जिसे भारत और बांग्लादेश में बेचे जाने वाले उत्पाद के लिए, चार्ज किया जा सकता है। हालांकि, खुदरा विक्रेता इससे कम में उत्पाद बेचने का विकल्प चुन सकते हैं।
    • अधिकतम खुदरा मूल्य अब कानूनी मेट्रोलॉजी नियम (प्री पैक्ड कमोडिटीज) पीसीआर, 2006 द्वारा शासित है।

2. केंद्र सरकार ने एक लाख 70 हजार करोड़ रूपये के राहत पैकेज की घोषणा की।

  • केंद्र सरकार ने हाल ही में कोविड-19 से प्रभावित गरीब लोगों के लिए एक लाख 70 हजार करोड़ रूपये के राहत पैकेज की घोषणा की है।
  • कोरोना वायरस के संपर्क में आने वाले लोगों के लिए (चिकित्सक, पैरा मेडीकर्मी, स्वास्थ्यकर्मी, सफाई कर्मचारी) 3  महीने के लिए 50 लाख रूपये का बीमा भी कराया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री किसान योजना, जो कि 24 फरवरी 2019 को शुरू की गई थी, के तहत 8 करोड़ 70 लाख किसानों और अन्य को अप्रैल के पहले सप्ताह तक उनके खाते में 2000 रूपये दिए जाएंगे।
  • साथ ही मनरेगा, जो कि वर्ष 2006 में प्रारंभ हुई थी, श्रमिकों की मजदूरी में भी वृद्धि की घोषणा केंद्र सरकार ने की है, जिससे 5 करोड़ परिवारों को फायदा मिलेगा।

3. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गांधीनगर ने प्रोजेक्ट आईजैक लॉन्च किया है।

  • हाल ही में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गांधीनगर ने प्रोजेक्ट आईजैक (ISAAC) लॉन्च किया है।
  • यह प्रोजेक्ट कोरोना वायरस के कारण अपने घरों तक सीमित रहते हुए छात्रों के कौशल को बढ़ाने के लिए रचनात्मक परियोजनाओं में संलग्न करने के लिए लॉन्च किया है।
  • यह परियोजना सर आइजैक न्यूटन से प्रेरित है, जिन्हें 1665 में लंदन के महान प्लेग के कारण ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज द्वारा घर भेज दिया गया था।
  • इस दौरान, न्यूटन ने प्रकाशिकी और गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांतों की खोज और विकास किया था।
  • इस प्रोजैक्ट के अंतर्गत आई.आई.टी गांधीनगर के छात्र घर बैठे लेखन, पेंटिंग, कोडिंग, संगीत आदि की विभिन्न प्रतियोगिताओं में स्वैच्छिक रूप से हिस्सा ले सकेंगे।

4. एआरआई, पुणे के वैज्ञानिकों ने गेहूं की एक नई किस्म- एमएसीएस 4028 विकसित की।

  • एआरआई (ARI), पुणे के वैज्ञानिकों ने बायोफोर्टिफाइड, उच्च प्रोटीन युक्त गेहूं की एक नई किस्म- एमएसीएस 4028 (MACS-4028) विकसित की है।
  • यह गेहूं की एक अर्ध-बौनी किस्म है।
  • यह प्रजाति गेंहू में होने वाले विभिन्न रोगों के लिए प्रतिरोधक क्षमता रखती है।
  • इस किस्म में बेहतर और स्थिर उपज क्षमता का विकास किया गया है।
  • बायोफोर्टिफिकेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा कृषि फसलों के पोषण की गुणवत्ता को कृषि संबंधी प्रथाओं, पारंपरिक पौधों के प्रजनन, या आधुनिक जैव प्रौद्योगिकी के माध्यम से बेहतर किया जाता है।

5. लघु वन उपज योजना आदिवासियों के बचाव में कारगर हो सकती है।

  • विशेषज्ञों के अनुसार कोरोनवायरस के प्रकोप से प्रभावित वन-निर्भर मजदूरों को लघु वन उपज योजना राहत दे सकती है।
  • लघु वन उपज योजना (MFP):
    • यह योजना केंद्र सरकार द्वारा अगस्त 2013 में शुरू की गई थी।
    • यह योजना एमएसपी के माध्यम से आदिवासियों द्वारा एकत्र किए गए लघु वन उपज के लिए उचित मूल्य प्रदान करती है।
    • वन अधिकार अधिनियम- 2006, के अनुसार एमएफपी (MFP) में बांस, ब्रश की लकड़ी, स्टंप, बेंत, टसर, कोकून, शहद, मोम, लाख, तेंदू या केंदू के पत्ते, औषधीय पौधों और जड़ी बूटियों, जड़ों, कंद, आदि जैसे पौधों की उत्पत्ति के सभी गैर-लकड़ी वन उपज शामिल हैं।

6.  सिक्किम के ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे हैं।

  • देहरादून स्थित एक संस्थान के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि सिक्किम में ग्लेशियर हिमालयी क्षेत्रों के अन्य भागों की तुलना में तेजी से पिघल रहे हैं ।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत किए गए इस अध्ययन में पाया गया है कि सिक्किम में ग्लेशियर 1991 से 2015 तक काफी पीछे हट गए हैं।
  • भारत में सर्वाधिक ग्लेशियर सिक्किम में स्थित हैं।
  • लोनक, रथोंग और ज़ेमु आदि ग्लेशियर सिक्किम में स्थित  हैं।

 

आज का विषय -“रक्त”

रक्त एक तरल पदार्थ है। यह रक्त नलिकाओं के माध्यम से पूरे मानव शरीर में संचरण करता है। मनुष्यों के रक्त में प्लाज्मा (तरल भाग), लाल रक्त कोशिकाएं, सफेद रक्त कोशिकाएं, और प्लेटलेट्स नामक कोशिका कण शामिल हैं।

मानव रक्त समूहों ए,बी,ओ (A,B,O) की खोज 1901 में ऑस्ट्रिया में जन्मे अमेरिकी जीवविज्ञानी कार्ल लैंडस्टीनर ने की थी।

प्लाज्मा- रक्त का मुख्य घटक (55%) है और इसमें प्रोटीन, आयन, पोषक तत्व और मिश्रित अपशिष्ट पदार्थों के साथ अधिकतर पानी (90%) होता है। प्लाज्मा में पाए जाने वाले अणु रक्त पीएच और परासरणी संतुलन बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं, जिसमें एल्ब्यूमिन विशेष रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

लाल रक्त कोशिकाएं (RBCs) - ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड को ले जाने के लिए जिम्मेदार हैं। लाल रक्त कोशिकाएं, या एरिथ्रोसाइट्स, विशेष कोशिकाएं हैं जो शरीर में घूमती हैं और ऊतकों को ऑक्सीजन पहुंचाती हैं। इसमें माइटोकॉन्ड्रिया या नाभिक शामिल नहीं होता है। लाल रंग हीमोग्लोबिन नामक लोहे युक्त प्रोटीन की उपस्थिति के कारण होता है जो ऑक्सीजन अणु के साथ बंधता है। लाल रक्त कोशिका के उत्पादन को गुर्दे द्वारा जारी, हार्मोन एरिथ्रोपोइटिन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। आरबीसी का औसत जीवन काल 120 दिन है।

श्वेत रक्त कोशिकाएं (WBCs) - प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा हैं और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में कार्य करती हैं। श्वेत रक्त कोशिकाएं, जिन्हें ल्यूकोसाइट्स भी कहा जाता है, लाल रक्त कोशिकाओं की तुलना में बहुत कम हैं और रक्त में 1% से भी कम है। उनकी भूमिका मुख्य रूप से बैक्टीरिया और वायरस जैसे आक्रमणकारियों को पहचानने और उन्हें बेअसर करने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं में हैं।

श्वेत रक्त कोशिकाएं लाल रक्त कोशिकाओं से बड़ी होती हैं, और लाल रक्त कोशिकाओं के विपरीत, उनके पास एक सामान्य नाभिक और माइटोकॉन्ड्रिया होता है। कुछ डब्लू बी सी केवल घंटों या दिनों के लिए रहते हैं जबकि कुछ वर्षों तक जीते हैं।

प्लेटलेट्स- रक्त के थक्के के लिए जिम्मेदार होते हैं। प्लेटलेट्स, जिसे थ्रोम्बोसाइट्स भी कहा जाता है, रक्त के थक्के में शामिल कोशिका कण हैं। चोट लगने पर प्लेटलेट्स घाव वाली जगह पर आकर्षित होते हैं, जहां वे एक चिपचिपा प्लग बनाते हैं। अंततः रक्त प्लाज्मा में मौजूद पानी में घुलनशील प्रोटीन, फाइब्रिन एक थक्का बनता है जो रक्त को बहने से रोकता है।

रक्त के कार्य

  • शरीर के विभिन्न ऊतकों को आक्सीजन पहुँचाना।
  • शरीर के एक अंग से दूसरे अंग तक जल का वितरण करना।
  • शरीर का पी. एच और ताप नियंत्रित करना।
  • उत्सर्जी पदार्थों जैसे- यूरिया कार्बन, डाई आक्साइड, लैक्टिक अम्ल आदि शरीर से बाहर निकालने में मदद करना।
  • पोषक तत्वों जैसे ग्लूकोस, अमीनो अम्ल और वसा अम्ल को शरीर के विभिन्न अंगो तक ले जाना।
  • साथ ही प्रतिरक्षात्मक कार्य करना।
  • हार्मोन्स को गंतव्य स्थल तक पहुंचाना।

 

समसामयिक प्रश्नोत्तर

1. सरकार द्वारा हाल ही में 200 मिली लीटर हैंड सैनिटाइज़र की बोतल की कीमत कितनी तय की गई है?

  1. 50 रूपये
  2. 100 रुपये
  3. 200 रुपये
  4. 75 रुपये

2. प्रधानमंत्री किसान योजना का प्रारंभ किस वर्ष किया गया था?

  1. 2015
  2. 2016
  3. 2019
  4. 2018

3. प्रोजेक्ट आईजैक किस आई. आई. टी ने लॉन्च किया है?

  1. गांधीनगर
  2. पटना
  3. इंदौर
  4. गुवाहाटी

4. हाल ही में विकसित एमएसीएस 4028 किस फसल की एक प्रजाति है?

  1. गेंहू
  2. धान
  3. अरहर
  4. चना

5. लघु वन उपज योजना किस वर्ष प्रारंभ की गई थी?

  1. 2008
  2. 2009
  3. 2013
  4. 2015

6. लोनक ग्लेशियर कहां स्थित हैं?

  1. हिमाचल प्रदेश
  2. सिक्किम 
  3. उत्तराखण्ड
  4. अरूणाचल प्रदेश

 

उत्तर

1. B                          

2. C

3. A

4. A

5. C

6. B

 

 

Share Blog


Loading Comments