डेली करेंट अफेयर्स और GK | 28 मार्च 2020

2020-03-28

1. स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाइड्रो-ऑक्सी-क्लोरोक्विन की बिक्री नियंत्रित करने की अधिसूचना जारी की।

  • हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा हाइड्रो-ऑक्सी-क्लोरोक्विन को आवश्यक दवा घोषित करते हुए इसकी बिक्री को नियंत्रित करने के लिए अधिसूचना जारी की गई है।
  • यह दवा को कोविड-19 महामारी के इलाज में उपयोगी है, अतः इसे आवश्यक औषधि घोषित किया गया है।
  • हाइड्रो-ऑक्सी-क्लोरोक्विन या इससे बनाई जाने वाली किसी भी खुदरा दवा की बिक्री, 1945 की औषधि तथा सौंदर्य प्रसाधन नियमावली की अनुसूची एच-1 के अनुसार विनियमित की जायेगी।
  • केन्द्र सरकार ने कोविड-19 महामारी की आपात आवश्यकताओं को देखते हुए हाइड्रो-ऑक्सी-क्लोरोक्विन को जनहित में आवश्यक दवा सूची में रखा है।

2. गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय आपदा मोचन कोष के अंतर्गत 5751 करोड़ रूपये की सहायता राशि मंजूर की है।

  • हाल ही में गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाली उच्चस्तरीय बैठक में राष्ट्रीय आपदामोचन कोष के तहत 5751 करोड रुपये की अतिरिक्त केंद्रीय सहायता राशि मंजूर की गई है।
  • यह राशि पिछले वर्ष बाढ, भूस्खलन, चक्रवात और सूखा से प्रभावित आठ राज्यों को प्रदान की जाएगी।  
  • राष्ट्रीय आपदा मोचन कोष (NDRF):
    • यह केंद्र सरकार द्वारा किसी खतरनाक आपदा स्थिति या आपदा के कारण आपातकालीन प्रतिक्रिया, राहत और पुनर्वास के लिए खर्चों को पूरा करने के लिए प्रबंधित फंड है।
    • यह आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 (डीएम अधिनियम) की धारा 46 में परिभाषित किया गया है।

3. मोटरवाहन डीलरों को उच्चतम न्यायालय ने राहत दी।

  • हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने मोटरवाहन डीलरों को राहत देते हुए उन्हें देश में दस दिन के लिए बी एस- 4 मानक वाले वाहनों की बिक्री की अनुमति दे दी है।
  • यह छूट राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में लागू नहीं है।
  • लेकिन यह बिक्री देशव्यापी लॉकडाउन की अवधि के समाप्त होने के बाद ही की जा सकेगी।
  • इससे पहले, देशभर में बी एस-4 मानदंड वाले वाहनों की बिक्री की अंतिम समयसीमा 31 मार्च 2020 तय की गई थी।
  • न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति दीपकगुप्ता की पीठ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के द्वारा यह निर्णय सुनाया है।
  • बीएस-4 और बीएस-6 दोनों वाहनों द्वारा किये जाने वाले उत्सर्जन में प्रदूषकों के अधिकतम इकाई मानदंड हैं, जिन्हें भारत सरकार के द्वारा निर्धारित किया जाता है।
  • बीएस-6 ईंधन, वर्तमान बीएस-4 के मुकाबले 5 गुना तक कम सल्फर उत्सर्जित करता है। इसमें बीएस-4 में 50 पीपीएम के मुकाबले 10 पीपीएम सल्फर है।

4. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी -20 के नेताओं से मानव जाति के कल्याण का आह्वान किया।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल जी -20 के समिट में नेताओं से सामूहिक मानव जाति के कल्याण के लिए मदद करने का आह्वान किया है।
  • इस बैठक में जी-20 के नेताओं ने महामारी को रोकने और लोगों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक उपाय करने पर अपनी सहमति व्यक्त की है और चिकित्सा आपूर्ति, नैदानिक उपकरण, उपचार, दवाएं और टीके के माध्यम से सर्मथन का वादा किया है।
  • जी -20 देशों ने कोविड-19 के सामाजिक और आर्थिक प्रभाव का मुकाबला करने के लिए वैश्विक अर्थव्यवस्था में 5 ट्रिलियन डॉलर से अधिक का निवेश करने का भी निर्णय लिया है।
  • साथ ही इन नेताओं ने स्वैच्छिक आधार पर विश्व स्वास्थ्य संगठन के नेतृत्व वाले कोविड-19 सॉलिडैरिटी रिस्पॉन्स फंड में योगदान देने पर भी सहमति व्यक्त की है।
  • जी- 20:
    • जी- 20 19 देशों और यूरोपीय संघ की सरकारों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों का एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है।
    • इसकी स्थापना सितंबर 1999 में की गई थी।

5. पीसो ने ऑक्सीजन की आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न उपाय किए।

  • पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन (PESO) ने कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिए अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों को ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न उपाय किए हैं।
  • पीसो द्वारा तत्काल ऑक्सीजन के भंडारण और परिवहन के लिए लाइसेंस प्रदान करने के लिए अपने सभी कार्यालयों को निर्देश दिए गए हैं।
  • पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन (PESO):
    • यह एक स्वायत्त, नियामक प्राधिकरण हैं।
    • इसकी स्थापना 9 सितंबर 1898 में की गई थी।
    • इसका मुख्यालय नागपुर में स्थित है।

6. भारतीय रिजर्व बैंक ने बेंचमार्क ब्याज दरों में कमी करने की घोषणा की।

  • भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बेंचमार्क ब्याज दरों में कमी किए जाने की घोषणा की है।
  • रेपो दर में 75 आधार अंकों की कमी करके 4.4% कर दिया गया है।
  • रिवर्स रेपो दर में भी 90 आधार अंकों की कमी करके 4.0% प्रतिशत कर दिया गया है।
  • साथ ही नकद आरक्षी अनुपात (CRR) भी 4%  से घटा कर 3% कर दिया गया है।
  • इसके अलावा रिजर्व बैंक ने सभी कर्जों के मासिक भुगतान पर तीन महीने तक की राहत दी है।
  • यह सभी निर्णय कोविड-19 महामारी के चलते देश में सुधारात्मक प्रयासों के तहत लिए गये हैं।
  • रेपो दर- यह वह दर होती है, जिस पर देश का केंद्रीय बैंक, वाणिज्यिक बैंको को ऋण देता है।
  • रिवर्स रेपो दर- यह वह दर है, जिस पर वाणिज्यिक बैंक अपना धन केंद्रीय बैंक के पास जमा करते हैं।
  • नगद आरक्षित अनुपात (CRR)- यह एक निश्चित न्यूनतम जमा राशि है जिसे वाणिज्यिक बैंकों को केंद्रीय बैंक के पास भंडार के रूप में रखना होता है।

7. भारत दक्षिण कोरिया से परीक्षण किट लेने की योजना बना रहा है।

  • वर्तमान में भारत दक्षिण कोरिया से कोराना वायरस के परीक्षण के लिए टेस्टिंग किट लेने की योजना बना रहा है।
  • दक्षिण कोरिया ने एक स्क्रीनिंग प्रक्रिया सीरोलॉजिकल परीक्षण के द्वारा काफी हद तक कोविड-19 पर काबू पा लिया है।
  • इस समय भारत केवल आरटी-पीसीआर परीक्षण कर रहा है। सरकार ने निजी प्रयोगशाला में आरटी-पीसीआर परीक्षण के लिए 4,500 रुपये का मूल्य तय किया है।
  • आई.सी.एम.आर ने आपूर्तिकर्ताओं से 7 लाख आरएनए निष्कर्षण किटों की खरीद के लिए भी कहा है।
  • कोरोनोवायरस के परीक्षण के प्रयासों के तहत भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने संक्रमण के निदान के लिए 5 लाख एंटीबॉडी किट की आपूर्ति करने के लिए निर्माताओं को आमंत्रित किया है।                                                                

 

आज का विषय- “हिमालयी नदियाँ”

भारत में नदियों का एक जाल बिछा है और ये नदियां हमेशा से ही सभ्यता का केंद्र रहीं हैं। भारत में पायी जाने वाली नदियों को मुख्यतः दो भागों में विभाजित किया जा सकता है।

  1. हिमालयी नदियाँ
  2. प्रायद्विपीय भारत की नदियाँ

हिमालयी नदियाँ

इन्हें सदानीरा या उत्तर भारत की नदियों के नाम से भी जाना जाता है। इनकी प्रमुख विशेषताएं इस प्रकार हैं-

  • हिमालयी नदियों में बड़े बेसिन होते हैं, चूँकि ये नदियाँ बर्फ़ के पिघलने और वर्षा दोनों से पोषित होती हैं। अतः वे प्रकृति में बारहमासी हैं।
  • हिमालय की नदियाँ समुद्र में गिरने से पहले लंबे मार्गों को कवर करती हैं।
  • ये नदियाँ हिमालय की तलछटी विशेषताओं के कारण अधिक तलछट और गाद लाती हैं। अधिक वर्षा और नदियों द्वारा भारी मात्रा में तलछट के कारण बार-बार बाढ़ और तबाही होती है। जैसे कि कोसी नदी में आने वाली बाढ़ के कारण उसे बिहार का शोक कहा जाता है।
  • हिमालय की कई नदी प्रणालियाँ अपने युवाकाल में हैं और हिमालय के उत्थान साथ-साथ इनमें क्षरणकारी गतिविधियां भी होती हैं। इस चरण में गहरी यू वी  के आकार की घाटियाँ बन जाती हैं। मैदानी इलाकों में प्रवेश करने के बाद वे नदी के मुहाने के पास गोखुर झीलों, बाढ़ के मैदान, लटके हुए चैनल और डेल्टा जैसी आकृतियों का निर्माण करते हैं।
  • गंगा, ब्रह्मपुत्र और सिंधु प्रमुख हिमालयी नदियाँ हैं।

1. सिंधु-

सिंधु नदी दुनिया की सबसे बड़ी नदी घाटियों में से एक है। सिंधु नदी चीन (तिब्बत क्षेत्र), भारत और पाकिस्तान से होकर बहती है। तिब्बत में, इसे सिंगी खंबाई या शेर के मुंह के रूप में जाना जाता है।

उद्गम - सिंधु नदी का उद्गम तिब्बत क्षेत्र में बोखार चू के पास एक ग्लेशियर से होता है जो मानसरोवर झील के पास कैलाश मानसरोवर श्रेणी में है।

विर्सजन -सिंधु नदी एक विशाल डेल्टा बनाने के बाद पाकिस्तान के बंदरगाह शहर कराची के पास अरब सागर में गिरती है।

बांयें तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- जसकर नदी, सुरू नदी, सोण नदी, झेलम नदी, चेनाब नदी, रावी नदी, ब्यास नदी, सतलुज नदी हैं।

दाहिने तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- श्योक नदी, गिलगित नदी, हुंजा नदी, स्वात नदी, कुन्नार नदी, कुर्रम नदी और काबुल नदी हैं।

2. गंगा-

उद्गम - गंगा उत्तराखंड में गोमुख के पास गंगोत्री ग्लेशियर से निकलती है।

विर्सजन - गंगा नदी उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों से होकर बहते हुए अंत में बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

इसकी बांयें तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- गोमती नदी, घाघरा नदी, गंडकी नदी और कोसी नदी हैं।

दाहिने तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- यमुना नदी, सोन नदी, पुनपुन और दामोदर हैं।

गंगा नदी में पांच प्रकार के प्रयाग बनते हैं जो इस प्रकार हैं-

  1. देवप्रयाग- भागीरथी नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर ।
  2. रुद्रप्रयाग- मंदाकिनी नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर ।
  3. नंदाप्रयाग- नंदकिनी नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर ।
  4. कर्णप्रयाग- पिंडर नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर ।
  5. विष्णुप्रयाग-धौलीगंगा नदी और अलकनंदा नदी के संगम पर ।

3. ब्रह्मपुत्र-

ब्रह्मपुत्र नदी प्रणाली दुनिया की सबसे बड़ी नदियों में से एक है। तिब्बत क्षेत्र में, इसे यारलुंग, त्संगपो के नाम से जाना जाता है। इसे भारत में सियांग और दिहांग के नाम से जाना जाता है। इसे दो मुख्य सहायक नदियों, दिबांग और लोहित से जुड़ने के बाद, इसे ब्रह्मपुत्र के नाम से जाना जाता है। बांग्लादेश में यह जुमना नाम से बहती है। अंत में गंगा नदी में विलीन हो जाती है।

दुनिया का सबसे बड़ा नदी द्वीप, माजुली द्वीप असम राज्य में ब्रह्मपुत्र नदी पर है।

उद्गम - ब्रह्मपुत्र नदी तिब्बत में हिमालय के उत्तर में मानसरोवर झील के पास कैलाश श्रेणी के चामुंडुंग ग्लेशियर से निकलती है।

विर्सजन-  ब्रह्मपुत्र गंगा के साथ एक विशाल डेल्टा बनाने से पहले बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

बांयें तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- बुढी दिहांग, धनसारी और कलंग हैं।

दाहिने तट की प्रमुख सहायक नदियाँ- सुबानसिरी, कामेंग, मानस और संकोश हैं।

 

 

समसामयिक प्रश्नोत्तर

1. वर्तमान आदेशों के अनुसार हाइड्रो-ऑक्सी-क्लोरोक्विन की बिक्री को किस वर्ष के औषधि तथा सौंदर्य प्रसाधन नियमावली के तहत विनियमित किया जायेगा?

A. 1956

B. 1968

C. 1945

D. 1975

 

2. राष्ट्रीय आपदा मोचन कोष को किस अधिनियम के तहत परिभाषित किया गया है?

A. आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2007

B. आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005

C. आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2009

D. आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2012

 

3. बीएस-6 मानक के ईंधन किस प्रदूषक का उत्सर्जन बी एस-4 के मुकाबले 5 गुना तक कम करते हैं?

A. कार्बन डाई ऑक्साइड

B. सल्फर

C. क्लोरीन

D. लैड

 

4. जी-20 समूह की स्थापना कब की गई थी?

A. 1999

B. 1986

C. 1970

D. 1995

 

5. पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन का मुख्यालय कहां स्थित है?

A. कानपुर 

B. नागपुर

C. विजयवाड़ा

D. कोच्ची

 

6. नगद आरक्षित अनुपात की दर को घटा कर अब कितना कर दिया गया है?

A. 3.5%        

B. 3 %

C. 4%

D. 2%

 

7. वर्तमान में भारत किस देश से कोराना वायरस के परीक्षण के लिए टेस्टिंग किट लेने की योजना बना रहा है?

A. रूस

B. अमेरिका

C. दक्षिण कोरिया

D. क्यूबा

 

उत्तर 

1. C

2. B

3. B

4. A

5. B

6. B

7. C

 

 

Share Blog


Loading Comments