डेली करेंट अफेयर्स और GK | 30 दिसंबर 2020

Main Headlines:

विषय: राष्ट्रीय समाचार

1. आईआईटी हैदराबाद में ऑटोनॉमस नेविगेशन सिस्टम के लिए भारत के पहले टेस्ट बेड का नींव पत्थर रखा गया।

  • केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने ‘तिहान-आईआईटी हैदराबाद’ की वर्चुअल आधारशिला रखी।
  • तिहान-आईआईटी हैदराबाद भारत के ऑटोनोमस नेविगेशन सिस्टम (स्थलीय और हवाई) के लिए प्रथम परीक्षण स्थल है।
  • राष्ट्रीय अंतर-विषयी साइबर-फिजिकल सिस्टम (एनएम-आईसीपीएस) मिशन के तहत ऑटोनोमस नेविगेशन और डेटा अधिग्रहण प्रणाली (यूएवी, आरओवीएस आदि) पर एक प्रौद्योगिकी नवाचार केन्द्र स्थापित करने के लिए आईआईटी हैदराबाद को अनुदान प्रदान किया गया था।
  • यह सुविधा उद्योगों, ऑटोनोमस नेविगेशन के व्यापक क्षेत्रों में अनुसंधान एवं विकास के लिए कार्यरत संचालन करने वाले आरएंडडी प्रयोगशालाओं, शिक्षाविदों द्वारा उपयोग के लिए उपलब्ध होगा।
 

विषय: सरकारी योजनाएं और पहल

2. महासागर डेटा प्रबंधन के लिए अपनी तरह का पहला डिजिटल प्लेटफॉर्म - "डिजिटल ओशन" लॉन्च किया गया।

  • पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने वेब-आधारित अनुप्रयोग- डिजिटल महासागर का शुभारंभ किया है।
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के INCOIS ने महासागर डेटा प्रबंधन के लिए अपनी तरह का यह पहला डिजिटल प्लेटफॉर्म विकसित किया है।
  • यह मंच हमारे महासागरों के स्थायी प्रबंधन और  'ब्लू इकोनॉमी’ की पहलों के विस्तार में मदद करेगा।
  • भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र (INCOIS):
    • यह पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय है।
    • इसकी स्थापना 1999 में हुई थी।
    • यह विभिन्न हितधारकों को महासागर की जानकारी और सलाह प्रदान करता है।
    • यह सुनामी, तूफान की लहरों, ऊंची लहरों आदि के लिए चेतावनी सेवाएं भी प्रदान करता है।
    • श्रीनिवास कुमार भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र के निदेशक हैं।

ocean data management

(Source: PIB)

 

विषय: राष्ट्रीय समाचार

3. भारत के सर्वोच्च मौसम विज्ञान केंद्र का उद्घाटन केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने लेह (लद्दाख) में किया।

  • भारत के सर्वोच्च मौसम विज्ञान केंद्र का उद्घाटन केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने लेह (लद्दाख) में किया है।
  • यह केंद्र समुद्र तल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित होगा। यह नुब्रा, चांगथांग, पैंगोंग झील, ज़ांस्कर, कारगिल, द्रास, ढा-बयमा (आर्यन घाटी), खलसी और अन्य जैसे पर्यटन स्थानों के लिए मौसम का पूर्वानुमान प्रदान करेगा।
  • लद्दाख क्षेत्र में उच्च ढलान वाले ऊँचे पहाड़ों के होने, कोई वनस्पति नहीं होने और बहुत सारी ढीली मिट्टी और मलबे के कारण बादल फटने, फ्लैश फ्लड्स, हिमस्खलन और हिमनद झील आदि के प्रकोप का खतरा होता है।
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्री ने कहा कि आईएमडी लेह और कारगिल के लिए दैनिक आधार पर मौसम पूर्वानुमान सेवाओं को प्रदान करेगा।
  • हाईवे का पूर्वानुमान, पर्वतारोहण, ट्रेकिंग, कृषि, फ्लैश फ्लड वॉर्निंग, कम और उच्च तापमान के लिए पूर्वानुमान भी उपलब्ध कराया जाएगा।
  • वर्तमान में, आईएमडी के 6 क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र मुंबई, चेन्नई, नई दिल्ली, कलकत्ता, नागपुर और गुवाहाटी में हैं।
  • लेह:
    • क्षेत्रफल के लिहाज से, कच्छ जिला, गुजरात के बाद लेह जिला भारत का दूसरा सबसे बड़ा जिला है।
    • कारगिल जिला इसके पश्चिम में स्थित है। लाहुल और स्पीति इसके दक्षिण में स्थित हैं। अक्षय चिन और तिब्बत इसके पूर्व में हैं।
    • राष्ट्रीय राजमार्ग 1 लेह को श्रीनगर से जोड़ता है।

विषय: रिपोर्ट और सूचकांक / रैंकिंग

4. विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन द्वारा  एक्शन एजेंडा फॉर एन आत्मनिर्भर भारत रिपोर्ट जारी की गई।

  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन द्वारा एक्शन एजेंडा फॉर एन आत्मनिर्भर भारत रिपोर्ट जारी की गई है।
  • प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान और मूल्यांकन परिषद (टीआईएफएसी), नई दिल्ली ने रिपोर्ट तैयार की है। मंत्री ने कहा कि 15 अगस्त 2022 तक रिपोर्ट में प्रमुख सुझावों को प्रभावी करने के लिए एक योजना तैयार की जानी चाहिए।
  • मंत्री ने कहा कि रिपोर्ट टीआईएफएसी के श्वेत पत्र फोकस्ड इन्टरवेंशन्स फॉर मेक इन इंडिया : पोस्ट कोविद -19  की अनुवर्ती है।
  • फोकस्ड इन्टरवेंशन्स फॉर मेक इन इंडिया : पोस्ट कोविद -19 श्वेत पत्र जुलाई में जारी किया गया था।
  • प्रौद्योगिकी सूचना, पूर्वानुमान और मूल्यांकन परिषद (टीआईएफएसी):
    • यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत एक स्वायत्त निकाय है।
    • इसका गठन 1998 में किया गया था। डॉ वी.के. सारस्वत टीआईएफएसी गवर्निंग काउंसिल के अध्यक्ष हैं।
    • इसमें 9 पदेन सदस्य और 8 प्रख्यात सदस्य हैं।

Atma Nirbhar Bharat report released by Science and Technology

(Source: News on AIR)

विषय: नियुक्ति

5. वैक्सीन और टीकाकरण के लिए ग्लोबल अलायंस ने डॉ हर्षवर्धन को गावी बोर्ड में सदस्य के रूप में नामित किया।

  • वैक्सीन और टीकाकरण के लिए ग्लोबल अलायंस (गावी) ने डॉ हर्षवर्धन को गावी बोर्ड में सदस्य के रूप में नामित किया है।
  • वह 1 जनवरी 2021 से 31 दिसंबर, 2023 तक दो वर्षों की अवधि के लिए गावी बोर्ड में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।
  • डॉ हर्षवर्धन वर्तमान में केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री का पद संभाल रहे हैं।
  • वह गावी बोर्ड में दक्षिण पूर्व क्षेत्र क्षेत्रीय कार्यालय / पश्चिमी प्रशांत क्षेत्रीय कार्यालय निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करेंगे। वर्तमान में म्यांमार के मिंट ह्वेवे इस पद को संभाल रहे हैं।
  • गावी बोर्ड:
    • यह गावी का सर्वोच्च शासी निकाय है। इसके 28 सदस्य हैं। नाइजीरिया के नगोजी ओकोंजो-इवेला इसे चेयर करते हैं।
    • यूनिसेफ, डब्लूएचओ, वर्ल्ड बैंक और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के पास गावी बोर्ड की चार स्थायी सीटें हैं।
    • गावी बोर्ड की जिम्मेदारियों में रणनीतिक दिशा, नीति निर्माण, कार्यक्रम कार्यान्वयन और गावी के संचालन की देखरेख शामिल हैं।

विषय: अंतर्राष्ट्रीय समाचार

6. ईयू-यूके पोस्ट- ब्रेक्सिट ट्रेड डील को मंजूरी दी गई।

  • ईयू-यूके पोस्ट- ब्रेक्सिट व्यापार सौदे को 27 दिसंबर 2020 को 27 यूरोपीय संघ (ईयू) के सदस्य राज्यों के राजदूतों द्वारा अनुमोदित किया गया है।
  • ईयू-यूके पोस्ट- ब्रेक्सिट व्यापार सौदा 1 जनवरी को कानून बन जाएगा यदि ब्रिटेन की संसद आज इसे मंजूरी देती है।
  • यूरोपीय संसद जनवरी में इस समझौते पर मतदान करेगी। लेकिन, यूरोपीय संघ के नियमों के तहत यह सौदा अनंतिम रूप से प्रभावी हो सकता है।
  • ब्रिटेन और तुर्की ने भी ब्रेक्सिट मुक्त व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। वर्तमान में, यूरोपीय संघ की अध्यक्षता जर्मनी के साथ है।
  • यूरोपीय संघ:
    • यह 27 सदस्य राज्यों जो मुख्य रूप से यूरोप में स्थित हैं का एक राजनीतिक और आर्थिक संघ है।
    • इसकी स्थापना 1 नवंबर 1993 को हुई थी। इसका मुख्यालय बेल्जियम के ब्रुसेल्स में है।
    • यूरोपीय संसद यूरोपीय संघ का एक विधायी निकाय है।
    • यूरोपीय संघ की परिषद के साथ, यह यूरोपीय आयोग द्वारा प्रस्तावित कानूनों को मंजूरी देता है।

post-brexit free trade agreement

(Source: News on AIR)

विषय: नया विकास

7. बार्क (BARC) ने पहली बार आँखों के कैंसर के लिए प्लैक चिकित्सा विकसित की।

  • भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC) ने ऑक्यूलर ट्यूमर से पीड़ित रोगियों के लिए पहली स्वदेशी रूथीनियम 106 प्लैक के रूप में आंखों के कैंसर के उपचार की पद्धति विकसित किया है।
  • इससे पहले, परमाणु अनुसंधान विभाग और डॉ. राजेन्द्र प्रसाद नेत्र विज्ञान केन्द्र, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने नेत्र कैंसर के इलाज के लिए प्लैक के उपयोग के लिए सहमत हुए थे।
  • बार्क (BARC) द्वारा विकसित प्लैक चिकित्सा अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार है और सर्जनों के लिए सुविधाजनक है।
  • इस थेरेपी में रेडियोधर्मी तत्वों जैसे रूथेनियम -106 का उपयोग किया जाता है। यह चिकित्सा उपचार की लागत को कम करने में मदद करेगी।
  • इस उपचार में प्रयुक्त प्लैक एक बार में लगभग 50 मरीजों का इलाज कर सकती है और इसका जीवनावधि एक वर्ष है।
  • भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC):
    • इसकी स्थापना होमी जे भाभा ने 1954 में की थी।
    • यह एक बहु-विषयक अनुसंधान केंद्र है।
    • इसका मुख्यालय ट्रॉम्बे में स्थित है।
    • यह परमाणु अनुसंधान विभाग के तहत काम करता है।

विषय: रिपोर्ट और संकेत

8. पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो ने पुलिस संगठनों पर डेटा जारी किया है।

  • पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा पुलिस संगठनों का नवीनतम डेटा जारी किया गया है।
  • रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएं:
    • सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए पुलिस बल की कुल स्वीकृत संख्या 26,23,225 है और 5,31,737 रिक्तियां हैं।
    • देश की कुल पुलिस संख्या का सिर्फ 10.30 प्रतिशत हिस्सा महिलाओं का है। पिछले वर्ष की तुलना में महिलाओं का प्रतिशत 16.05% बढ़ा है।
    • सीएपीएफ के लिए स्वीकृत शक्ति 11,09,511 है। महिलाएं की संख्या कुल संख्या का महज 2.9 प्रतिशत हैं।
    • देश में पुलिस स्टेशनों की कुल संख्या 16995 और 63 पुलिस आयुक्त हैं।
    • प्रति लाख जनसंख्या पर स्वीकृत पुलिस कार्मिक 195.39 है।
    • उत्तर प्रदेश में पुलिस व्यक्तियों की संख्या सबसे अधिक है, इसके बाद महाराष्ट्र में है।
    • रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस में महिलाओं की कम संख्या महिलाओं के खिलाफ अपराध से निपटने में एक गंभीर चुनौती है।

विषय: रिपोर्ट और संकेत

9. एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत 2020 में अतिविषम जलवायु घटनाओं से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है।

  • एक अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्ट के अनुसार, भारत 2020 में अतिविषम जलवायु घटनाओं से सबसे अधिक प्रभावित देश रहा है।
  • रिपोर्ट के अनुसार, 2020 में भारत में अतिविषम जलवायु घटनाओं के कारण 2067 जानें चली गईं।
  • बाढ़ और चक्रवात अम्फान लोगों के जीवन के नुकसान और विस्थापन के मुख्य कारक हैं।
  • पश्चिम बंगाल में चक्रवात अम्फान ने लगभग 4.9 मिलियन लोगों को विस्थापित किया था। यह 2020 में अतिविषम जलवायु घटनाओं के कारण यह सबसे बड़ा विस्थापन था।
  • एशियाई महाद्वीप 2020 में दुनिया में आपदाओं से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है।
  • साउश ऐशिया क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क (CANSA) के एक अध्ययन के अनुसार, जलवायु परिवर्तन के कारण 2050 तक 62 मिलियन लोग दक्षिण एशिया में विस्थापित हो जाएंगे।
  • सुपर चक्रवात अम्फान:
    • सुपर चक्रवात अम्फन की उत्पत्ति बंगाल की खाड़ी में हुई थी।
    • इसका नाम थाईलैंड ने दिया था।
    • यह बंगाल की खाड़ी में सबसे मजबूत तेज में से एक था।
    • एक चक्रवात एक कम दबाव वाली प्रणाली है जिसके चारों ओर बहुत तेज़ हवाएँ होती हैं।

amphan cyclone asian continent

(Source: Down to Earth)

विषय: किताबें और लेखक

10. केंद्रीय मंत्री ने "सूत्रनिवेदनाची सूत्र -एक अनुभव" पुस्तक का विमोचन किया।

  • केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने एक कोंकणी पुस्तक "सूत्र निवेदनाची सूत्र -एक अनुभव” (Sutranivednachi sutra- ek anbav) का विमोचन किया।
  • इसे डॉ रूपा चारी ने लिखा है।
  • इसे संजना प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया गया है।
  • पुस्तक युवा पीढ़ी को कॉम्परिंग के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए प्रेरित करेगी।
  • डॉ रूपा चारी गोवा में कॉम्परिंग के क्षेत्र में एक प्रसिद्ध व्यक्तित्व हैं।

dr roopa chari

(Source: PIB)

 

 

 

0
COMMENTS

Comments


Share Blog