डेली करेंट अफेयर्स और GK | 19 दिसंबर 2020

By PendulumEdu | Last Modified: 21 Dec 2020 15:12 PM IST

Main Headlines:

REPUBLIC DAY OFFER get 25% Off
Use Coupon code REPUBLIC

six months current affairs 2022 july december Rs.199/- Read More
half yearly current affairs july december july december 2022 in detail Rs.219/- Read More
half yearly current affairs in hindi jul dec 2022 in detail Rs.219/- Read More
six months current affairs 2022 book in hindi july december Rs.199/- Read More


Half Yearly (Jul- Dec 2022 , InShort)
2022 e Book

Current Affairs

Available in English & Hindi(eBook)

Buy Now ( Hindi ) Preview Buy Now (English)

विषय: कला और संस्कृति

1. यूनेस्को ने सिंगापुर के "हॉकर” संस्कृति को मान्यता दी।

  • यूनेस्को ने मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की प्रतिनिधि सूची में सिंगापुर के "हॉकर संस्कृति" को जोड़ा है।
  • सिंगापुर की हॉकर संस्कृति स्ट्रीट फूड के लिए प्रसिद्ध है।
  • सड़क विक्रेताओं को स्थान प्रदान करने के लिए सिंगापुर में "हॉकर" केंद्र 1970 के दशक में शुरू किए गए थे।
  • इन केंद्रों को उनके सांस्कृतिक महत्व के लिए सूची में जोड़ा गया है। हॉकर केंद्र 'सामुदायिक भोजन कक्ष' के रूप में कार्य करते हैं, जहाँ विभिन्न वर्ग और संस्कृति के लोग अपने अनुभव साझा करते हैं।
  • फ्रांसीसी भोजन को भी ग्लोबल इनटैन्जिबल कल्चरल हेरिटेज सूची में जोड़ा गया है।
  • भारत की 13 सांस्कृतिक अमूर्त विरासत इस सूची में शामिल हैं।
  • यूनेस्को अमूर्त सांस्कृतिक विरासत सूची:
    • यह सूची 2008 में अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा के सम्मेलन के बाद स्थापित की गई थी।
    • सूची का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर में अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करना और उनके बारे में जागरूकता लाना है।
 

विषय: पुरस्कार और सम्मान

2. विद्युत् मोहन, 2020 के "यंग चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ" के विजेताओं में से एक है।

  • भारत का एक उद्यमी, विद्युत मोहन, 2020 के "यंग चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ" के विजेताओं में से एक है।
  • "यंग चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ" पुरस्कार दुनिया की पर्यावरण चुनौतियों को हल करने के लिए संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम द्वारा दिया जाता है।
  • किसानों को कृषि अवशेषों को खुले में जलाने से रोकने के लिए विद्युत मोहन को यह पुरस्कार दिया गया है। उन्होंने एक सामाजिक उद्यम "टेकाचार" शुरू किया है, जो किसानों से कृषि अवशेष खरीदता है और उन्हें चारकोल में परिवर्तित करता है।
  • "टेकाचार" ने न केवल कृषि अवशेषों को जलाने से रोका है बल्कि किसानों की आय में भी 40 प्रतिशत की वृद्धि की है।
  • इस पुरस्‍कार के अन्‍य विजयेता केन्या से नजांबी मेटे, चीन के शियाओयुआन रेन, ग्रीस  के लेफ्टिस अरापकिस, पेरू के मैक्स हिडाल्‍गो क्विंटो, अमेरिका के निरिया एलिसिया गार्सिया और कुवैत के फतमा अल्जेलजेला हैं।
  • द यंग चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ पुरस्कार:
    • यह  सतत पर्यावरण परिवर्तन से संबंधित अभिनव विचारों के लिए 30 वर्ष से कम आयु के सात उद्यमियों को हर साल प्रदान किया जाता है।
    • विजेताओं को $ 10,000 की पुरस्कार राशि से सम्मानित किया जाता है और उन्हें अपने अभिनव विचारों को बढ़ाने के लिए सहायता प्रदान की जाएगी।
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP):
    • यह एक ऐसा प्राधिकरण है जो वैश्विक पर्यावरणीय एजेंडा तय करता है और पर्यावरण से संबंधित नीतियों को लागू करने में विकासशील देशों की मदद भी करता है।
    • मुख्यालय: नैरोबी, केन्या

united nations environment programme

(Source: UNEP)

 

विषय: समाचार में व्यक्तित्व

3. संगीत के उस्ताद इक़बाल अहमद खान का निधन हो गया है।

  • भारतीय शास्त्रीय संगीत के उस्ताद इकबाल अहमद खान का 66 वर्ष की आयु में निधन हो गया है।
  • वह दिल्ली घराने के एक भारतीय शास्त्रीय गायक थे। उन्हें दिल्ली घराने के खलीफा के रूप में भी जाना जाता है।
  • वे शास्त्रीय संगीत के पुनर्जागरण के लिए एक पहल 'दिली दरबार' के संस्थापक थे।
  • उन्हें हिंदुस्तानी संगीत के लिए "गायन आचार्य", "संगीत रतन", "संगीत सौरभ", मिर्ज़ा ग़ालिब पुरस्कार, अमीर खुसरो सम्मान और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार जैसे कई पुरस्कार और उपाधियाँ मिलीं थी।
  • उन्होंने अमीर खुसरो के संगीत कार्यों को बढ़ावा दिया था।

ustad iqbal ahmed khan

(Source: Hindustan Times)

विषय: पुरस्कार और सम्मान

4. ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2020 केरल स्थित ईएसएएफ एसएफबी द्वारा जीता गया।

  • ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2020 को केरल स्थित ईएसएएफ (इवेंजेलिकल सोशल एक्शन फोरम) एसएफबी (स्मॉल फाइनेंस बैंक) ने जीता है।
  • ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी अवार्ड्स एनर्जी एंड एनवायरनमेंट फाउंडेशन द्वारा प्रदान किए जाते हैं, जो एक गैर-लाभकारी और स्वतंत्र गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) है।
  • ईएसएएफ एसएफबी (स्मॉल फाइनेंस बैंक) को पर्यावरण को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने की दिशा में अपने प्रयासों और कदमों के लिए ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2020 के लिए चुना गया।
  • भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने प्लेटिनम श्रेणी में ग्लोबल सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2020 जीता है।
  • भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) एक महारत्न तेल शोधन और विपणन कंपनी है। इसका मुख्यालय मुंबई में स्थित है।
  • वर्तमान में, यह भारत सरकार (52.98%) के स्वामित्व में है। लेकिन, सरकार बीपीसीएल का निजीकरण करना चाहती है और उसने मार्च 2020 में अपनी 52.98% हिस्सेदारी बेचने के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं।
  • ईएसएएफ एसएफबी केरल स्थित स्मॉल फाइनेंस बैंक (एसएफबी) है। एसएफबी केवल वित्तीय समावेशन के उद्देश्य से बुनियादी बैंकिंग सेवाएं (जमा और उधार) प्रदान करता है। वे केवल आरबीआई द्वारा शासित होते हैं और न्यूनतम 100 करोड़ रु की न्यूनतम पूँजी की आवश्यकता होती है।

विषय: अवसंरचना और ऊर्जा

5. राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान में विद्युत क्षेत्र में कौशल विकास के लिए पहला सीओई स्थापित।

  • विद्युत क्षेत्र में कौशल विकास के लिए पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी (एनआईएसई), गुरुग्राम में स्किल इंडिया द्वारा स्थापित किया गया है।
  • एनआईएसई, गुरुग्राम में सीओई फ्रांसीसी सरकार के साथ साझेदारी में स्थापित किया गया है।
  • विशेष रूप से, राष्ट्रीय शिक्षा और युवा मंत्रालय, फ्रांसीसी गणराज्य की सरकार, श्नाइडर इलेक्ट्रिक और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने सीओई शुरू किया है।
  • यह अत्यधिक कुशल प्रशिक्षकों और मूल्यांकनकर्ताओं का एक पूल जो आगे उम्मीदवारों को बिजली, स्वचालन और सौर ऊर्जा क्षेत्रों में रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए प्रशिक्षित करेगा बनाने का प्रयास है ।
  • स्किल इंडिया राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन को संदर्भित करता है। इसे 2015 में लॉन्च किया गया था।
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी (एनआईएसई), गुरुग्राम, नई और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय का उत्कृष्टता का एक स्वायत्त केंद्र है। इसका गठन 2013 में किया गया था।
  • सरकार चेन्नई में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ विंड एनर्जी (एनआईडब्लूई) भी चला रही है।इसकी स्थापना 1998 में हुई थी।

विषय: महत्वपूर्ण दिन

6. गोवा मुक्ति दिवस: 19 दिसंबर

  • गोवा मुक्ति दिवस हर साल 19 दिसंबर को पुर्तगाली शासन से गोवा की स्वतंत्रता का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है।
  • गोवा 1510 से पुर्तगाली उपनिवेशों का हिस्सा था। यह 1961 में भारतीय सेना द्वारा मुक्त किया गया था।
  • भारतीय सेना ने गोवा को पुर्तगाली शासन से मुक्त करने के लिए 18 दिसंबर 1961 को 'ऑपरेशन विजय' शुरू किया था। 36 घंटे के ऑपरेशन के बाद, भारतीय सैनिकों ने 19 दिसंबर को गोवा क्षेत्र को पुनः प्राप्त किया।
  • पुर्तगाली गवर्नर, मैनुअल एंटोनियो वास्सलो ई सिल्वा ने आत्मसमर्पण के प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर किए, जिसने गोवा में पुर्तगाली शासन को समाप्त कर दिया।
  • गोवा को 30 मई 1987 को राज्य का दर्जा दिया गया था।
  • गोवा:
    • यह भारत के दक्षिण-पश्चिमी भाग में स्थित है।
    • यह महाराष्ट्र और कर्नाटक के साथ सीमा साझा करता है।
    • यह क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे छोटा और जनसंख्या के हिसाब से चौथा सबसे छोटा राज्य है।
    • पणजी गोवा की राजधानी है।
    • प्रमोद सावंत मुख्यमंत्री हैं और भगत सिंह कोश्यारी गोवा के राज्यपाल हैं।

Goa Liberation Day

विषय: शिखर सम्मेलन / सम्मेलन / बैठकें

7. भारत और वियतनाम के प्रधान मंत्री 21 दिसंबर को एक आभासी बैठक करेंगे।

  • भारत और वियतनाम के प्रधान मंत्री 21 दिसंबर को एक आभासी बैठक करेंगे।
  • दोनों नेता द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। वे भारत-वियतनाम व्यापक रणनीतिक साझेदारी पर भी चर्चा करेंगे।
  • इससे पहले वियतनाम के उपराष्ट्रपति भारत आए थे और दोनों देशों ने विदेश मंत्रियों के स्तर पर एक संयुक्त आयोग की बैठक आयोजित की थी।
  • वियतनाम:
    • यह दक्षिण-पूर्व एशियाई देश है।
    • यह चीन, लाओस और कंबोडिया के साथ सीमा साझा करता है।
    • यह अपने समुद्र तटों, नदियों और बौद्ध पैगोडा के लिए जाना जाता है।
    • इसकी राजधानी हनोई है और मुद्रा वियतनामी डोंग है।
    • ग्यूयेन तन ज़ूंग प्रधान मंत्री हैं और डांग थी नगोक थिन्ह वियतनाम के उपराष्ट्रपति हैं।

india-vietnam comprehensive strategic partnership

विषय: समझौता ज्ञापन / समझौते

7. खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने समझौता ज्ञापनों और एक संयुक्त विज्ञप्ति पर हस्ताक्षर किए।

  • खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने ट्राईफेड, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त और विकास निगम, नेफेड और राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम के साथ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं। इसने जनजातीय मामलों के मंत्रालय के साथ एक संयुक्त विज्ञप्ति पर भी हस्ताक्षर किए हैं।
  • इसने ‘पीएम फॉर्मलाइजेशन ऑफ माइक्रो फूड प्रोससिंग एंटरप्राइज (पीएम एफएमई) योजना' के कार्यान्वयन के लिए इन समझौता ज्ञापनों और संयुक्त विज्ञप्ति पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • इन समझौता ज्ञापनों का मुख्य उद्देश्य सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों का समर्थन करना और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के विकास के लिए लोगों को प्रशिक्षित करना है।
  • सब्सिडी के हस्तांतरण के लिए खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय और यूनियन बैंक के बीच एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए गए हैं।
  • विभिन्न समझौता ज्ञापनों के उद्देश्य हैं:
    • ट्राईफेड के साथ समझौता ज्ञापन 'ट्राईफ़ूड' के तहत आदिवासी खाद्य उत्पादों को बढ़ावा देने में मदद करेगा।
    • आईसीएआर के साथ समझौता ज्ञापन खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी और खाद्य उत्पादों की पैकेजिंग के क्षेत्र में संगठनों की मदद करेगा।
    • एनएसएफडीसी के साथ समझौता ज्ञापन एससी उद्यमियों, स्वयं सहायता समूहों और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में अन्य समूहों की मदद करेगा।
    • नेफेड के साथ समझौता ज्ञापन ‘नेफेड फ़ूड’ के उत्पादों को बढ़ावा देगा।
    • एनसीडीसी के साथ समझौता ज्ञापन खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में सहकारी समितियों के सदस्यों की परियोजना रिपोर्ट तैयार करने में मदद करेगा।
  • जनजातीय मामलों के मंत्रालय के साथ संयुक्त विज्ञप्ति से खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में जनजातीय उद्यमों की पहचान करने में मदद मिलेगी।
  • पीएम फॉर्मलाइजेशन ऑफ माइक्रो फूड प्रोससिंग एंटरप्राइज (पीएम एफएमई) योजना:
    • इसे 29 जून 2020 को लॉन्च किया गया था।
    • यह देश में सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को वित्तीय, तकनीकी और व्यावसायिक सहायता प्रदान करने के लिए खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की एक प्रमुख योजना है।
    • यह प्रौद्योगिकी उन्नयन, कौशल विकास और खाद्य उत्पादों की ब्रांडिंग के में भी मदद करेगा।

विषय: राष्ट्रीय समाचार

9. भारतीय रेलवे ने राष्ट्रीय रेल योजना का प्रारूप जारी किया।

  • भारतीय रेलवे ने अपनी अवसंरचना क्षमता बढ़ाने और माल ढुलाई के अपने हिस्से को बेहतर बनाने के लिए राष्ट्रीय रेल योजना का मसौदा जारी किया है।
  • इसे रेलवे के अवसंरचनात्मक, व्यावसायिक और वित्तीय नियोजन के लिए विकसित किया गया है।
  • राष्ट्रीय रेल योजना के तहत, विज़न 2024 को 2024 तक महत्वपूर्ण परियोजनाओं को पूरा करने के लिए शुरू किया गया है, इसमें 100% विद्युतीकरण, दिल्ली-हावड़ा और दिल्ली-मुंबई मार्गों का उन्नयन, और कुछ मार्गों पर क्रॉसिंग को समाप्त करना शामिल है।
  • राष्ट्रीय रेलवे योजना का अंतिम मसौदा जनवरी 2021 तक जारी किया जाएगा।
  • भारतीय रेलवे का लक्ष्य 2030 के बाद राजस्व अधिशेष संगठन बनना है।
  • राष्ट्रीय रेल योजना के उद्देश्य:
    • 2030 तक अपनी क्षमता बढ़ाना
    • माल ढुलाई में रेलवे की हिस्सेदारी को 2030 तक 27 प्रतिशत से 45 प्रतिशत बढ़ाना
    • 2030 तक नेट ज़ीरो कार्बन उत्सर्जक बनाना
    • ट्रेनों की गति बढ़ाकर यात्रा का समय कम करना।
    • रेलवे की परिवहन लागत को 30% तक कम करना।
    • यात्री ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची को समाप्त करना।

Draft of national rail plan

(Source: Draft National Rail Plan)

विषय: पर्यावरण और पारिस्थितिकी

10. आईयूसीएन ने विश्लेषण किया कि भारतीय शार्क, रेज़ और चीमरे भारतीय ईईजेड में विलुप्त होने के उच्च जोखिम का सामना कर रहे हैं।

  • आईयूसीएन ने खुलासा किया है कि शार्क, रेज़ और चीमरे की लगभग 11 प्रतिशत प्रजातियां भारतीय विशेष आर्थिक क्षेत्र में विलुप्त होने के उच्च जोखिम का सामना कर रहे हैं।
  • भारतीय ईईजेड में 170 प्रजातियों में से 19 को गंभीर रूप से विलुप्तप्राय के रूप में वर्गीकृत किया गया है, 30 को विलुप्तप्राय, 38 को असुरक्षित और 27 को संरक्षण पर निर्भर के रूप में वर्गीकृत किया गया है।
  • गंभीर रूप से विलुप्तप्राय होने का प्रतिशत 3% से बढ़कर 11% हो गया है।
  • आईयूसीएन की लाल सूची के हालिया अपडेट में, भारतीय स्वेलशार्क सेफेलोस्क्लियम सिलसी को गंभीर रूप से विलुप्तप्राय की श्रेणी में जोड़ा गया है। यह श्रीलंका, केरल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के क्षेत्र में पाया जाता है।
  • स्मूथ हममेरहेड शार्क को इसकी आबादी में गिरावट के कारण गंभीर रूप से लुप्तप्राय की सूची में जोड़ा गया है।
  • संरक्षण नीति के निर्माण के लिए इस मूल्यांकन के निष्कर्ष महत्वपूर्ण हैं।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN):
    • यह दुनिया के वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण के क्षेत्र में एक वैश्विक संगठन है।
    • यह पौधों और जानवरों के विलुप्त होने के जोखिम के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए एक आईयूसीएन (IUCN) लाल सूची जारी करता है।
    • यह प्रजातियों को विलुप्त होने की स्थिति के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत करता है। ये श्रेणियां हैं:
      • विलुप्त (Extinct)
      • वन-विलुप्त (Extinct in the Wild)
      • घोर-संकटग्रस्त (Critically Endangered)
      • संकटग्रस्त (Endangered)
      • असुरक्षित (Vulnerable)
      • संकट-निकट (Near Threatened)
      • संकटमुक्त (Least Concern)

 

 

 

 

0
COMMENTS

Comments


Share Blog


Half Yearly (Jul - Dec 2022)
2022 Book

Banking Awareness

For IBPS, SBI, SEBI, RBI, State PCS, UPSC Exams

Preview Buy Now


Current Affairs

Attempt Daily Current
Affairs Quiz

Attempt Quiz