डेली करेंट अफेयर्स और GK | 23 फरवरी 2021

Main Headlines:

विषय: महत्वपूर्ण दिन

1. विश्व चिंतन दिवस (थिंकिंग डे) प्रतिवर्ष 22 फरवरी को मनाया जाता है।

  • विश्व चिंतन दिवस (थिंकिंग डे) प्रतिवर्ष 22 फरवरी को मनाया जाने वाला एक विशेष दिन है और विश्व चिंतन दिवस 2021 के लिए थीम “शांति स्थापना” है।
  • वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ गर्ल गाइड्स एंड गर्ल स्काउट्स के अनुसार, विश्व चिंतन दिवस अंतरराष्ट्रीय दोस्ती का दिन है और 150 देशों में गर्ल गाइड और गर्ल स्काउट्स के लिए धन जुटाने का अवसर है।
  • गर्ल गाइड्स और गर्ल स्काउट्स के साथ-साथ स्काउट और गाइड संगठन इसे पूरे विश्व में मानते हैं।
  • 22 फरवरी को इसीलिए चुना गया क्योंकि यह नीचे उल्लेखित दो प्रसिद्ध हस्तियों का जन्मदिन है।
    • रॉबर्ट बैडेन पॉवेल (आर बी पॉवेल): वह बॉय स्काउट आंदोलन के संस्थापक हैं। वह पहले चीफ स्काउट थे।
    • ओलावे बेडेन पॉवेल: वह आर बी पॉवेल की पत्नी और ब्रिटेन की पहली मुख्य मार्गदर्शक (चीफ गाइड) थीं।
  • विश्व चिंतन दिवस 1926 से मनाया जाता है। इसे पहले थिंकिंग डे के नाम से जाना जाता था।
  • वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ गर्ल गाइड्स एंड गर्ल स्काउट्स हर साल विश्व चिंतन दिवस के लिए थीम का चयन करती है। इसकी स्थापना 1928 में हुई थी। इसका मुख्यालय लंदन में है।
 

विषय: समझौता ज्ञापन / समझौते

2. बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और सीएसआईआर ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

  • वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने भारत में स्वास्थ्य के क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • इस समझौते ज्ञापन का मुख्य केंद्र-बिंदु नई रोकथाम और उपचारों के विकास और परीक्षण पर होगा। यह भारत और विकासशील देशों के प्रमुख स्वास्थ्य मुद्दों को हल करने में मदद करेगा।
  • इस समझौता ज्ञापन के तहत, दोनों पक्ष विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग करेंगे। ये क्षेत्र हैं:
    • आनुवंशिक रोग जो शिशु और नवजात मृत्यु दर को प्रभावित करते हैं
    • संक्रामक रोग के लिए निदान और उपकरण
    • दवा, टीके, और निदान निर्माण के लिए लागत प्रभावी प्रक्रियाओं का विकास
  • वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर): इसकी स्थापना 26 सितंबर, 1942 को हुई थी। यह भारत का सबसे बड़ा अनुसंधान और विकास संगठन है। इसके वर्तमान महानिदेशक शेखर सी मांडे हैं। भारत में इसकी 38 प्रयोगशालाएँ हैं।
  • बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन: इसे 2000 में लॉन्च किया गया था। यह बिल और मेलिंडा गेट्स द्वारा स्थापित एक अमेरिकी निजी संस्थान है। यह दुनिया की सबसे बड़ी निजी संस्थान है।
 

विषय: राज्य समाचार / उत्तर प्रदेश

3. यूपी में जेवर हवाई अड्डे को एशिया के सबसे बड़े हवाई अड्डे के रूप में विकसित किया जाएगा।

  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि राज्य सरकार जेवर हवाई अड्डे को एशिया के सबसे बड़े हवाई अड्डे के रूप में विकसित करने की योजना बना रही है।
  • राज्य सरकार ने बजट 2021-22 में इस हवाई अड्डे के लिए 2,000 करोड़ रु का आवंटन किया है। 
  • जेवर हवाई अड्डे के रनवे की संख्या दो से बढ़ाकर छह कर दी गई है।
  • यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (वाईईआईडीए) को राज्य सरकार की ओर से जेवर हवाई अड्डे के लिए कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में नियुक्त किया गया है।
  • नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एनआईएएल), एक विशेष एजेंसी जो सरकार द्वारा बनायीं गयी है, परियोजना का प्रबंधन और संचालन कर रही है।
  • हवाई अड्डे को पीपीपी मोड में विकसित किया जाएगा और 2023 तक इसके पूरा होने की उम्मीद है।
  • अयोध्या हवाई अड्डा, जो निर्माणाधीन है, का नाम मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम हवाई अड्डा रखा जायेगा।
  • बजट 2021-22 के तहत अयोध्या हवाई अड्डे के लिए 101 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
  • अयोध्या एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाया जाएगा।

विषय: खेल

4. कर्नाटक में 2021 खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स आयोजित किये जायेंगे।

  • केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने घोषणा की है कि कर्नाटक द्वितीय खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की मेजबानी करेगा।
  • भारतीय विश्वविद्यालयों के संघ के साथ साझेदारी में बेंगलुरु 2021 खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की मेजबानी करेगा।
  • जैन विश्वविद्यालय बेंगलुरु अधिकतम खेल आयोजनों की मेजबानी करेगा।
  • यूनिवर्सिटी गेम्स के दूसरे संस्करण में योगासन और मल्लखंभ को जोड़ा गया है।
  • किरेन रिजिजू ने भारतीय खेल प्राधिकरण, बेंगलुरु परिसर में चार नई खेल सुविधाओं का उद्घाटन किया।
  • खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स:
    • यह एक बहु-खेल प्रतियोगिता है, जिसका आयोजन भारतीय खेल प्राधिकरण, भारतीय ओलंपिक संघ और राष्ट्रीय खेल महासंघ के साथ-साथ युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा किया जाता है।
    • यह विश्वविद्यालय स्तर की सबसे बड़ी खेल प्रतियोगिता है।
    • खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का पहला संस्करण भुवनेश्वर, ओडिशा में 2020 में आयोजित किया गया था।
    • यूनिवर्सिटी गेम्स के पहले संस्करण में पंजाब विश्वविद्यालय विजेता के रूप में उभरा।
    • खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स अंडर -25 आयु वर्ग के लिए आयोजित किया जाता है।

Second Khelo India University Games

(Source: News on AIR)

विषय: सरकारी योजनाएं और पहल

5. एमएसएमई मंत्री ने पारंपरिक शिल्प को बढ़ावा देने के लिए स्फूर्ति समूहों का उद्घाटन किया।

  • केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी ने 18 राज्यों में फैले 50 शिल्पियों पर आधारित एसएफयूआरटीआई समूहों का उद्घाटन किया।
  • यह मलमल, खादी, कॉयर, हस्तकला, ​​हथकरघा, काठ शिल्प, चमड़े आदि के पारंपरिक उद्योगों में शामिल 42000 कारीगरों को सहयोग करेगा।
  • मंत्री ने पारंपरिक उत्पादों के लिए एक वेब पोर्टल की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने पारंपरिक उत्पादों के डिजाइन में सुधार और अधिक समूहों के गठन पर भी चर्चा की।
  • वर्तमान में, 371 समूह सरकार द्वारा अनुमोदित किए गए हैं, जिसमें केवल 82 कार्यात्मक हैं। सरकार का लक्ष्य प्रत्येक जिले में कम से कम 1 समूह की मदद करना है।

एसएफयूआरटीआई समूहों के प्रकार

सामान्य समूह (500 कारीगर) जिनकी सरकारी सहायता 2.5 करोड़ रूपये

मुख्य समूह (500 से अधिक कारीगर) हैं जिनकी सरकारी सहायता 5 करोड़ रूपये

 

  • पारंपरिक उद्योगों को पुनर्स्थापित करने के लिए फंड ऑफ रिजेनरेशन ऑफ ट्रेडिशनल इंडस्ट्रीज (एसएफयूआरटीआई) योजना:
    • पारंपरिक उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए एमएसएमई मंत्रालय द्वारा 1 अगस्त 2014 को संशोधित एसएफयूआरटीआई योजना शुरू की गई थी।
    • इसका मुख्य उद्देश्य पारंपरिक उद्योगों और कारीगरों को समूहों में व्यवस्थित करना है ताकि उन्हें प्रतिस्पर्धी बनाया जा सके और उनकी आय में वृद्धि हो सके।
    • यह विभिन्न सुविधा केंद्रों (सीएफसी) के माध्यम से समूहों को सहायता प्रदान करता है।

 

विषय: रक्षा

6. डीआरडीओ ने वर्टिकल लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (वीएल-एसआरएसएएम) को सफलतापूर्वक लॉन्च किया।

  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित वर्टिकल लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (VL-SRSAM) को ओडिशा के तट से सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया।
  • इसे भारतीय नौसेना के लिए डीआरडीओ द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया है। यह उन हवाई खतरों को बेअसर करने में मदद करेगा, जो रडार सिस्टम से बच सकते हैं।
  • परीक्षण प्रक्षेपण के दौरान, मिसाइल का परीक्षण न्यूनतम या अधिकतम रेंज के लिए किया गया और उड़ान पथ और वाहन के प्रदर्शन मापदंडों पर भी नजर रखी गई।
  • इसे ओडिशा तट के चांदीपुर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से एक स्थिर ऊर्ध्वाधर लॉन्चर के माध्यम से लॉन्च किया गया।
  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO):
    • यह 1958 में स्थापित किया गया था। यह भारतीय सशस्त्र बलों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण रक्षा प्रौद्योगिकियों और उत्पादों को विकसित करने में शामिल है।
    • यह रक्षा मंत्रालय के तहत काम करता है। इसका देश में 52 प्रयोगशालाओं का नेटवर्क है।
    • जी सतेश रेड्डी वर्तमान अध्यक्ष हैं और मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

The Vertical Launch Short Range Surface to Air Missile (VL-SRSAM)

(Source: News on AIR)

विषय: समझौता ज्ञापन / समझौते

7. भारत ने मालदीव के लिए रक्षा क्षेत्र में 50 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्‍ताक्षर किये।

  • भारत ने मालदीव की समुद्री क्षमताओं को बढ़ावा देने के लिए 50 मिलियन डॉलर के रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • मालदीव के वित्त मंत्रालय और भारत के निर्यात आयात बैंक ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • भारत और मालदीव ने यूटीएफ हार्बर परियोजना के लिए एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए। इस समझौते से मालदीव की तटरक्षक की क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  • यूटीएफ हार्बर परियोजना के तहत, भारत सिफवारू में एक मालदीव राष्ट्रीय रक्षा बल कोस्ट गार्ड हार्बर विकसित करेगा।
  • समुद्री निगरानी में मालदीव रक्षा बलों की क्षमता बढ़ाने में सहायता और सहयोग प्रदान करने की भारत की प्रतिबद्धता के तहत समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

विषय: जैव प्रौद्योगिकी और रोग

8. एनएएफएलडी (गैर अल्कहोलिक फैटी लिवर बीमारियों) के इलाज को महत्व देने वाला भारत दुनिया का पहला देश बन गया।

  • केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने एनएएफएलडी (गैर अल्कोहोलिक फैटी लिवर बीमारियां) को एनपीसीडीएस (कैंसर, मधुमेह, ह्रदय रोग और स्ट्रोक से बचाव और नियंत्रण का राष्ट्रीय कार्यक्रम) से जोड़ने के प्रक्रियागत दिशा-निर्देश जारी किए हैं।
  • भारत गैर-अल्कोहलिक फैटी लिवर रोग से निपटने की आवश्यकता की पहचान करने वाला पहला देश बन गया है।
  • एनएएफएलडी (गैर अल्कोहोलिक फैटी लिवर बीमारियां) यकृत कोशिकाओं में अतिरिक्त वसा के संचय के कारण होता है। एनएएफएलडी के अधिक गंभीर रूप को गैर अल्कोहोलिक स्टेटोहैपेटाइटिस (एनएएसएच) कहा जाता है।
  • एक अध्ययन के अनुसार, एनएएफएलडी भारत में 9% से 32% सामान्य आबादी में मौजूद है। टाइप 2 मधुमेह और मोटापे से ग्रस्त लोगों में एनएएफएलडी का खतरा अधिक होता है। एनएएफएलडी में मृत्यु का सबसे आम कारण हृदय रोग है।
  • एनपीसीडीएस के साथ एनएएफएलडी को एकीकृत करने का मुख्य उद्देश्य नीचे दिए गए उपायों से इसे रोकना और नियंत्रित करना है:
    • व्यवहार और जीवन शैली में परिवर्तन के माध्यम से
    • एनएएफएलडी के शीघ्र निदान और प्रबंधन द्वारा
    • स्वास्थ्य देखभाल के विभिन्न स्तर पर एनएएफएलडी की रोकथाम, निदान और उपचार के लिए क्षमता निर्माण से

India has become the first country to identify the need for tackling Non-Alcoholic Fatty Liver Disease

(Source: News on AIR)

विषय: शिखर सम्मेलन / सम्मेलन / बैठकें

9. एशिया आर्थिक वार्ता 2021 26 फरवरी से शुरू होगा।

  • एशिया आर्थिक वार्ता 2021 का आयोजन पुणे अंतर्राष्ट्रीय केंद्र और विदेश मंत्रालय द्वारा किया जाएगा। यह 26 से 28 फरवरी तक आयोजित होने वाला है।
  • भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया, मालदीव, मॉरीशस और भूटान के विदेश मंत्री इस बैठक में भाग लेंगे।
  • सम्मेलन का विषय- ‘पोस्ट-कोविद वैश्विक व्यापार और वित्त गतिकी’ होगा।
  • सम्मेलन सत्र विभिन्न मुद्दों पर आयोजित किए जाएंगे जैसे कि पोस्ट-कोविद दुनिया में वैश्विक विकास, पोस्ट कोविड दुनिया में वैश्विक वित्त और विश्वसनीय वैश्विक श्रृंखलाओं का निर्माण।
  • एशिया आर्थिक वार्ता व्यापार, वित्त और अन्य मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एशियाई देशों के लिए एक मंच है।

विषय: पर्यावरण और पारिस्थितिकी

10. चंडीगढ़ ने कार्बन फुटप्रिंट का आकलन करने के लिए भारत की पहली कार्बन वॉच लॉन्च की।

  • भारत की पहली कार्बन वॉच चंडीगढ़ के पर्यावरण और वन विभाग द्वारा लॉन्च की गई है। यह कार्बन फुटप्रिंट का आकलन करने के लिए एक मोबाइल एप्लिकेशन है।
  • यह वातावरण में एक व्यक्ति के कारण कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की मात्रा का आकलन करता है। यह व्यक्तिगत स्तर पर कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के तरीके भी सुझाता है। यह उत्सर्जन के राष्ट्रीय और विश्व औसत के बारे में जानकारी प्रदान करता है।
  • इस ऐप का उपयोग करने के लिए एक व्यक्ति को चार श्रेणी- जल, ऊर्जा, अपशिष्ट उत्पादन और परिवहन (वाहन आंदोलन) में जानकारी प्रदान करना होगा। एप्लिकेशन दिए गए डेटा का विश्लेषण करता है और फिर व्यक्ति के कार्बन फुटप्रिंट का आकलन करता है।
  • कार्बन फुटप्रिंट कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की मात्रा है जो किसी व्यक्ति, निगम, भवन आदि की सभी जुड़ी गतिविधियों से होती है। इसमें वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड के अप्रत्यक्ष उत्सर्जन के साथ-साथ सभी प्रत्यक्ष भी शामिल हैं।

विषय: राज्य समाचार / उत्तर प्रदेश

11. यूपी सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पहला पेपरलेस बजट पेश किया।

  • उत्तर प्रदेश सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए 5,50,270 करोड़ रुपये का अपना सबसे बड़ा बजट पेश किया। यह यूपी सरकार का पहला पेपरलेस बजट है।
  • बजट में उत्तर प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। इसे वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने प्रस्तुत किया है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए लगभग 5.12 लाख करोड़ रुपये का बजट पेश किया था।
  • बजट का मुख्य विवरण:
    • नई योजनाओं के लिए लगभग 27,500 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
    • राज्य के किसानों के कल्याण के लिए आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना शुरू की गई है।
    • सिंचाई सुविधाओं के लिए 700 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं और किसानों को कम ब्याज दर पर ऋण दिया जाएगा। राज्य में लगभग 1500 सोलर पंप स्थापित किए जाएंगे।
    • बालिका पोषण के लिए 100 करोड़ और महिला शक्ति केंद्रों की स्थापना के लिए 32 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
    • अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम हवाई अड्डे के विकास के लिए 101 करोड़ रुपये की राशि दी गई है।
    • महिला सामर्थ्‍य योजना के तहत, निराश्रित महिलाओं को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
    • अभ्युदय योजना के तहत पात्र छात्रों को मुफ्त टैबलेट दिए जाएंगे।
 

 

 

Share Blog