31 March 2023 Current Affairs in Hindi

By Priyanka Chaudhary | Last Modified: 31 Mar 2023 17:51 PM IST

Main Headlines:

Celebrate India's Epic T20 Win get 35% Off
Use Coupon code INDIAT20

half yearly financial awareness jan july 2024 Rs.199/- Read More
six months current affairs 2023 july december Rs.199/- Read More
half yearly financial awareness july december 2023 Rs.199/- Read More
half yearly current affairs jan july 2023 in detail Rs.219/- Read More


Half Yearly (Jul- Dec 2023 , Detailed)
2023 e Book

Current Affairs

Available in English & Hindi(eBook)

Buy Now ( Hindi ) Preview Buy Now (English)

विषय: अंतर्राष्ट्रीय समाचार

1. डब्ल्यूएचओ द्वारा अज़रबैजान और ताजिकिस्तान को मलेरिया मुक्त देशों के रूप में प्रमाणित किया गया।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अज़रबैजान और ताजिकिस्तान को उनके क्षेत्रों से मलेरिया को खत्म करने के लिए प्रमाणित किया है।
  • डब्ल्यूएचओ के निदेशक ने कहा कि "अज़रबैजान और ताजिकिस्तान के लोगों और सरकारों ने मलेरिया को खत्म करने के लिए कड़ी मेहनत की है"।
  • मलेरिया उन्मूलन का प्रमाणन विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा देश की मलेरिया मुक्त स्थिति की आधिकारिक मान्यता है।
  • प्रमाणीकरण उस देश को दिया जाता है जब एनोफेलीज मच्छरों द्वारा मलेरिया संचरण की श्रृंखला कम से कम पिछले तीन लगातार वर्षों से देश भर में बाधित हुई हो।
  • 2012 में अज़रबैजान और 2014 में ताजिकिस्तान में स्थानीय रूप से प्रसारित प्लाज्मोडियम वाइवैक्स (पी.विवैक्स) का आखिरी मामला पाया गया था।
  • डब्ल्यूएचओ द्वारा अब तक कुल 41 देशों और 1 क्षेत्र को मलेरिया मुक्त घोषित किया गया है, जिसमें यूरोपीय क्षेत्र के 21 देश शामिल हैं।
  • दोनों देशों की सरकारों ने छह दशकों से अधिक समय तक सार्वभौमिक प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल की गारंटी दी।
  • अज़रबैजान और ताजिकिस्तान दोनों ने रियल टाइम में मामलों के पता लगाने के लिए राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक मलेरिया निगरानी प्रणाली का उपयोग किया।
  • दोनों देशों में कृषि सिंचाई प्रणाली श्रमिकों के लिए मलेरिया के जोखिम को बढ़ाती है।
  • दोनों देशों ने मलेरिया निदान और उपचार तक मुफ्त पहुंच प्रदान करके कृषि श्रमिकों की सुरक्षा के लिए प्रणालियां स्थापित कीं।
  • भारत का 2027 तक मलेरिया मुक्त देश और 2030 तक मलेरिया उन्मूलन का सपना है।

विषय: शिखर सम्मेलन/सम्मेलन/बैठकें

2. दूसरी G20 शेरपा बैठक केरल के कुमारकोम में शुरू हुई।

  • भारत की G20 अध्यक्षता के तहत दूसरी G20 शेरपा बैठक 30 मार्च से 2 अप्रैल, 2023 तक कुमारकोम, केरल में होने वाली है।
  • चार दिवसीय बैठक की अध्यक्षता भारत के जी20 शेरपा श्री अमिताभ कांत करेंगे।
  • इस बैठक में G20 सदस्य देशों, 9 आमंत्रित देशों और विभिन्न अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय संगठनों के 120 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।
  • विकासोन्मुख और समावेशी डीपीआई बनाने के लिए वैश्विक चुनौतियों और अवसरों पर एक पैनल चर्चा भी आयोजित की जाएगी।
  • बैठक की शुरुआत डिजिटल पब्लिक इन्फ्रास्ट्रक्चर (DPI) और हरित विकास पर दो उच्च-स्तरीय साइड-इवेंट्स के साथ हुई।
  • डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर साइड-इवेंट का आयोजन नैसकॉम, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और डिजिटल इम्पैक्ट अलायंस (DIAL) के साथ साझेदारी में किया गया है।
  • हरित विकास कार्यक्रम का आयोजन भारत में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर कार्यालय (UNRC) और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ORF) के साथ साझेदारी में किया जाएगा।
  • यह हरित विकास की एक नई दृष्टि के लिए आवश्यक वैश्विक प्रयासों पर दृष्टिकोण प्रदान करेगा।
  • भारत के जी20 शेरपा श्री अमिताभ कांत जी20 त्रोइका के साथ भी चर्चा का नेतृत्व करेंगे जिसमें भारत, इंडोनेशिया और ब्राजील शामिल हैं।
  • दूसरी शेरपा बैठक वैश्विक चिंता के कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर काम करेगी और शेरपा ट्रैक के भीतर 13 कार्यकारी समूहों के तहत किए जा रहे कार्यों को कवर करेगी।
  • इसके अलावा, 11 समूह और 4 इनिशिएटिव नागरिक समाज, निजी क्षेत्र, शिक्षा, महिलाओं, युवाओं, वैज्ञानिक उन्नति और अनुसंधान के दृष्टिकोण से नीतिगत सिफारिशें प्रदान करेंगे।

विषय: पुस्तकें और लेखक

3. नेपाली उपन्यास 'फूलंगे' का अंग्रेजी संस्करण अप्रैल में प्रकाशित होगा।

  • 28 मार्च को, पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया (PRHI) ने घोषणा की, नेपाली उपन्यास "फूलंगे" का अंग्रेजी संस्करण 17 अप्रैल को जारी किया जाएगा।
  • दार्जिलिंग के लेखक लेखनाथ छेत्री द्वारा लिखित "फ्रूट्स ऑफ द बेरन ट्री" असफल गोरखा अलगाववादी आंदोलन के बारे में है।
  • 2021 में, मूल उपन्यास को नेपाल के सबसे प्रतिष्ठित साहित्यिक पुरस्कार, 'मदन पुरस्कार' के लिए नामांकित किया गया था।
  • अनुराग बासनेट आगामी संस्करण के संपादक-अनुवादक हैं।

विषय: अंतर्राष्ट्रीय समाचार

4. अमेरिका ने एच-1बी वीजा धारकों के जीवनसाथी को अमेरिका में काम करने की अनुमति दे दी।

  • अमरीका में प्रौद्योगिकी क्षेत्र में विदेशी कर्मचारियों को बड़ी राहत देते हुए, एक न्यायाधीश ने फैसला सुनाया है कि एच-1बी वीजा धारकों के जीवन साथी अब अमरीका में काम कर सकते हैं।
  • यूएस डिस्ट्रिक्ट जज तान्या चुटकन ने सेव जॉब्स यूएसए द्वारा दायर एक याचिका को खारिज करते हुए यह फैसला सुनाया।
  • याचिका में ओबामा कार्यकाल के उस नियम को रद्द करने का आग्रह किया गया था, जिसमें एच-1बी वीजा धारकों की कुछ श्रेणियों के कर्मचारियों के जीवन साथी को रोजगार प्राधिकरण कार्ड दिया था।
  • सेव जॉब्स यूएसए सूचना प्रौद्योगिकी कर्मचारियों का एक संगठन है जो दावा करता है कि एच-1बी वीजा धारकों के कारण उनकी नौकरियां जा रही हैं।
  • प्रौद्योगिकी क्षेत्र से जुडी एमाजॉन/अमेजॉन, एप्‍पल, गूगल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी बडी कंपनियों ने इस याचिका का विरोध किया है।
  • अमरीका ने अब तक एच-1 बी कर्मचारियों के जीवनसाथियों को काम करने के लगभग एक लाख अनुमति पत्र जारी किए हैं।
  • न्यायाधीश ने कहा कि अमेरिकी संसद की अनुमति से यह प्रावधान लंबे समय से मौजूद है और यह आव्रजन और नागरिकता कानून में भी दर्ज है।
  • डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी ने न केवल छात्रों के लिए, बल्कि उनके जीवनसाथी और आश्रितों के लिए भी रोजगार को अधिकृत किया है।
  • एच-1बी वीजा: यह एक गैर-आप्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विशिष्ट व्यवसायों में विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने की अनुमति देता है। यह नियम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा वर्ष 2015 में प्रेरित किया गया था, जिसने अपने ग्रीन कार्ड की प्रतीक्षा कर रहे एच-1बी वीजा वाले के जीवनसाथी के लिए वर्क परमिट की अनुमति दी थी।

H-1B Visa

(Source: News on AIR)

विषय: अंतर्राष्ट्रीय नियुक्ति

5. शेख मंसूर बिन जायद अल नाहयान को यूएई का उपराष्ट्रपति नियुक्त किया गया।

  • संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने देश के नेतृत्व के बारे में एक महत्वपूर्ण घोषणा की है।
  • संयुक्त अरब अमीरात की संघीय सुप्रीम परिषद के अनुमोदन से शेख मंसूर बिन जायेद अल नाहयान को संयुक्त अरब अमीरात का उप राष्ट्रपति नियुक्त किया गया है।
  • वर्तमान उपराष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम भी इस पद पर कार्य करेंगे।
  • शेख मंसूर को 2004 में जब राष्ट्रपति मामलों का मंत्री बनाया गया था तब से वे संयुक्त अरब अमीरात के राजनीतिक परिदृष्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं।
  • नए उपराष्ट्रपति अबू धाबी विकास कोष के अध्यक्ष और अबू धाबी सुप्रीम पेट्रोलियम परिषद के सदस्य भी होंगे।
  • उन्होंने राष्ट्रीय अभिलेखागार, अबू धाबी विकास कोष, अबू धाबी खाद्य नियंत्रण प्राधिकरण बोर्ड और अबू धाबी न्यायिक विभाग सहित कई निवेश संस्थान बोर्ड में अपनी सेवाएं दी हैं।

Sheikh Mansour bin Zayed Al Nahyan

(Source: News on AIR)

विषय: सरकारी योजनाएं और पहल

6. स्वच्छोत्सव 2023 के तहत अक्टूबर 2024 तक 1000 शहरों को '3-स्टार कचरा मुक्त' बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

  • केन्द्रीय शहरी आवास और शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप एस. पुरी ने कहा है कि अक्तूबर 2024 तक देश के 1,000 शहरों को '3-स्टार कचरा मुक्त' शहर बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • श्री पुरी नई दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय शून्य अपशिष्ट दिवस 2023 के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
  • शहरी स्थानीय निकायों में स्पर्धा भाव और मिशन मोड की भावना को प्रोत्साहित करने के लिए जनवरी 2018 में प्रारंभ किए गए जीएफसी- स्टार रेटिंग प्रोटोकॉल की प्रगति की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इसके प्रारंभ होने के समय से ही प्रमाणीकरण में काफी तेजी आई है।
  • शहरी भारत खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) हो गया है।
  • सभी 4,715 शहरी, स्थानीय निकाय (यूएलबी) पूरी तरह ओडीएफ हैं, 3,547 से भी यूएलबी ओडीएफ+संचालनरत और स्वच्छ सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों के साथ ओडीएफ हैं तथा 1,191 यूएलबी संपूर्ण मल कीचड़ प्रबंधन के साथ ओडीएफ++ हैं।
  • इसके अतिरिक्त भारत ने अपशिष्ट प्रसंस्करण 2014 के 17 प्रतिशत की तुलना में चार गुणा बढ़कर आज 75 प्रतिशत हो गया है।
  • इसे 97 प्रतिशत वार्डों में 100 प्रतिशत डोर टू डोर कचरा संग्रहण तथा देश के सभी यूएलबी में लगभग 90 प्रतिशत वार्डों में नागरिकों द्वारा कचरे के स्रोत को अलग-अलग करने से हुआ है।
  • अभियान ने कचरा मुक्त शहरों के लक्ष्यों को साकार करने के लिए महिलाओं की भागीदारी तथा नेतृत्व को बढावा देने का प्रयास किया है।
  • 8 मार्च, 2023 से शहरों में कार्यक्रमों और गतिविधियों की श्रृंखला आयोजित की गई है ताकि महिलाओं को जीवन के विभिन्न भागों से कचरा मुक्त शहरो के निर्माण की ओर ले जाया जा सके।
  • स्वच्छोत्सव अभियान शहरी स्वच्छता में नेतृत्व की भूमिका निभाने वाली 400,000 से अधिक महिला उद्यमियों के लिए एक मंच था।
  • अनूठी यात्रा और मसाल मार्च में भाग लेकर महिलाओं ने शहरीकरण की जिम्मेदारी ली और शहरी परिदृश्य को बदलने के लिए अग्रणी रूप में नेतृत्व किया।
  • माननीय प्रधानमंत्री ने समग्र स्वच्छता तथा अपशिष्ट प्रबंधन के ईको-सिस्टम की दिशा में भारत को एक नए मार्ग पर लाकर कचरा मुक्त शहर (जीएफसी) बनाने के विजन के साथ स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 का शुभारंभ किया था।
  • डोर टू डोर संग्रहण, स्रोत पृथकीकरण, अपशिष्ट प्रसंस्करण तथा डंप साइट उपचार, आईईसी, क्षमता निर्माण, डिजिटल ट्रेकिंग आदि को प्रोत्साहित करना जीएफसी बनाने के घटक हैं।
  • भारत शून्य अपशिष्ट दृष्टिकोण को भी बढ़ावा दे रहा है, जो एक बंद सर्कुलर प्रणाली में जिम्मेदार उत्पादन, उपभोग और उत्पादों के निपटान पर बल देता है।
 
Monthly Current Affairs eBooks
February Monthly Current Affairs January Monthly Current Affairs
December Monthly Current Affairs November Monthly Current Affairs

विषय: रक्षा

7. रक्षा मंत्रालय ने 11 अगली पीढ़ी के अपतटीय गश्ती जहाजों (एनजीओपीवी) और 6 अगली पीढ़ी के मिसाइल जहाजों (एनजीएमवी) के लिए 19,600 करोड़ रुपये के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।

  • 19,600 करोड़ रुपये की कुल लागत से इन जहाजों के अधिग्रहण के लिए भारतीय शिपयार्ड के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
  • 11 एनजीओपीवी के अधिग्रहण के लिए अनुबंध पर गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) और गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स (जीआरएसइ) कोलकाता के साथ 9,781 करोड़ रुपये की कुल लागत पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • 11 जहाजों में से, जीएसएल स्वदेशी रूप से सात जहाजों का डिजाइन, विकास और निर्माण करेगा।
  • जीआरएसई देश में ही चार जहाजों का डिजाइन, विकास और निर्माण करेगी।
  • जहाजों की डिलीवरी सितंबर 2026 से शुरू करने की योजना है।
  • 9,805 करोड़ रुपये की लागत से 6 एनजीएमवी के अधिग्रहण के लिए कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड (सीएसएल) के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए।
  • इन जहाजों की डिलीवरी मार्च 2027 से शुरू करने की योजना है।
  • इन जहाजों को स्थानीय नौसेना रक्षा कार्यों के लिए नियोजित किया जाएगा।
  • इन जहाजों को अपतटीय विकास क्षेत्र की समुद्री रक्षा के लिए भी नियोजित किया जाएगा।

विषय: राज्य समाचार/उत्तर प्रदेश

8. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में सेरीकल्चर (रेशमकीट पालन) मेले का उद्घाटन किया।

  • योगीराज बाबा गंभीरनाथ सभागार में सेरीकल्चर मेले का आयोजन किया गया।
  • यूपी सीएम ने 18 चाकी पालन भवनों, 9 थ्रेडिंग मशीन शेड और 36 सामुदायिक भवनों की आधारशिला भी रखी।
  • इसके अतिरिक्त रेशमकीट पालन गृह हेतु हितग्राहियों को अनुदान राशि का वितरण किया गया।
  • सीएम योगी ने कहा कि यूपी खाद्यान्न का सबसे बड़ा उत्पादक भी है।
  • उन्होंने टिप्पणी की कि यूपी भारत की कुल खेती योग्य भूमि का 11% है। यह देश के कुल खाद्यान्न उत्पादन में 20% का योगदान देता है। उत्तर प्रदेश में 9 जलवायु क्षेत्र हैं।
  • अतिरिक्त आय अर्जित करने के लिए किसान अपने खेत की मेड़ पर शहतूत का पौधा लगा सकते हैं।
  • यूपी के सीएम ने कहा कि यूपी में सिल्क की जरूरत 3 हजार टन है, लेकिन उत्पादन सिर्फ 350 टन है।
  • बनारस, मऊ, गोरखपुर, खलीलाबाद, अंबेडकर नगर, लखनऊ और मेरठ रेशम के कारोबार के लिए जाने जाते हैं।
  • यूपी के 57 जिलों में रेशम उत्पादन हो रहा है। सरकार का लक्ष्य 31 जलवायु अनुकूल जिलों में रेशम उत्पादन को गहनता से बढ़ाना है।
  • सीएम योगी ने कहा कि इससे पहले पीएम मोदी ने हरदोई के लिए पीएम मित्र मेगा टेक्सटाइल पार्क की घोषणा की।

विषय: राज्य समाचार/हिमाचल प्रदेश

9. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए 56,683 करोड़ रुपये का बजट पेश किया।

  • मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए हिमाचल प्रदेश का बजट पेश किया।
  • हिमाचल प्रदेश विनियोग विधेयक 2023 ध्वनि मत से पारित हुआ।
  • सत्ता पक्ष और विपक्ष ने 20 से 29 मार्च तक बजट पर चर्चा की।
  • बजट में हिमाचल प्रदेश को हरित राज्य बनाने, स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़क निर्माण आदि पर जोर दिया गया है।
  • राजकोषीय उत्तरदायित्व और बजट प्रबंधन (एफआरबीएम) विधेयक भी पारित किया गया।
  • बजट में 4704 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा है और अनुमानित राजकोषीय घाटा 9000 करोड़ रुपये है, जो सकल राज्य घरेलू उत्पाद का 4.61 प्रतिशत है।
  • खर्च किए गए प्रत्येक 100 रुपये में से 26 रुपये वेतन पर, 16 रुपये पेंशन पर, 10 रुपये ब्याज भुगतान पर, 10 रुपये ऋण अदायगी पर, 9 रुपये स्वायत्त संस्थानों को अनुदान और 29 रुपये अन्य गतिविधियों पर खर्च किए जाएंगे।
  • हिमाचल प्रदेश सरकार 2.31 लाख महिलाओं को प्रति माह 1,500 रुपये प्रदान करेगा।
  • सरकार पुरानी पेंशन योजना बहाल करेगी। इससे 1.36 लाख कर्मचारियों को फायदा होगा।
  • सरकार सौर ऊर्जा और अन्य हरित पहलों को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देगी।
  • लोक निर्माण विभाग और जल शक्ति, स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग से संबंधित मांगों पर चर्चा की गई और मतदान किया गया।

विषय: पुरस्कार और सम्मान

10. केरल संगीत नाटक अकादमी ने वर्ष 2022 के लिए फैलोशिप, पुरस्कार और गुरुपूजा पुरस्कारम की घोषणा की है।

  • केरल संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप के लिए तीन कलाकारों का चयन किया गया है।
  • थिएटर पर्सन गोपीनाथ कोझिकोड, संगीत निर्देशक पी.एस. विद्याधरन, और चेंडा/एडक्का कलाकार कलामंडलम उन्नीकृष्णन को उनके संबंधित क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए केरल संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप के लिए चुना गया है।
  • सत्रह लोगों को अकादमी पुरस्कार मिला जबकि 22 लोगों को गुरुपूजा पुरस्कारम दिया गया।
  • अकादमी पुरस्कारों के विजेताओं का विवरण नीचे दिया गया है:

वलसन निसारी (नाटक)

एस. नोवल राज (कथाप्रसंगम)

कलामंडलम राजीव (मिझावु)

कलामंडलम राधामणि (थुलाल)

विजयन कोवुर (लाइट संगीत)

एन. लतिका (लाइट म्यूजिक)

प्रकाश उलेरी (हारमोनियम/कीबोर्ड)

अलप्पुझा एस विजयकुमार (ताविल)

थिरुविझा विजू एस आनंद (वायलिन)

पलक्कड़ श्रीराम (शास्त्रीय संगीत)

बिजुला बालाकृष्णन (नृत्य)

कलामंडलम शीबा कृष्णकुमार (नृत्य)

कोट्टक्कल मुरली (नाटक)

रजिता मधु (नाटक)

लेनिन एडाकोची (नाटक)

सुरेश बाबू श्रीस्थ (नाटक)

बाबू अन्नुर (नाटक)

 

  • केरल संगीत नाटक अकादमी:
    • इसकी स्थापना 26 अप्रैल 1958 को संस्कृति विभाग के तहत की गई थी।
    • यह केरल के नृत्य, संगीत, नाटक और लोक कलाओं के विभिन्न रूपों को प्रोत्साहित करता है।
    • यह त्रिशूर केरल में स्थित है।

विषय: भारतीय अर्थव्यवस्था

11. सरकार ने वित्तीय वर्ष 2023-24 की पहली छमाही के लिए 8.88 लाख करोड़ रुपये ऋण लेने की योजना बनाई है।

  • भारत सरकार ने भारतीय रिज़र्व बैंक के परामर्श से वित्तीय वर्ष 2023-24 की पहली छमाही (H1) के लिए अपने ऋण कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया है।
  • केंद्रीय बजट में वित्त वर्ष 2023-24 के लिए अनुमानित 15.43 लाख करोड़ रुपये के सकल बाजार उधार की पहली छमाही (H1) में 8.88 लाख करोड़ रुपये (57.55%) ऋण लेने की योजना है।
  • ऋण को 3, 5, 7, 10, 14, 30 और 40 साल की प्रतिभूतियों के तहत बांटा जाएगा।
  • विभिन्न परिपक्वताओं के तहत ऋण का हिस्सा होगा: 3 वर्ष (6.31%), 5 वर्ष (11.71%), 7 वर्ष (10.25%), 10 वर्ष (20.50%), 14 वर्ष (17.57%), 30 वर्ष (16.10%) और 40 वर्ष (17.57%)।
  • वित्तीय वर्ष 2023-24 की दूसरी छमाही (H2) में सॉवरेन ग्रीन बॉन्ड जारी करने की घोषणा की जाएगी।
  • रिडेम्पशन प्रोफाइल को आसान बनाने के लिए सरकार स्विच ऑपरेशन जारी रखेगी।
  • नीलामी अधिसूचना में शामिल प्रत्येक प्रतिभूतियों के लिए 2,000 करोड़ रुपये तक की अतिरिक्त सदस्यता बनाए रखने के लिए, सरकार ग्रीनशू विकल्प का प्रयोग करना जारी रखेगी।
  • वित्तीय वर्ष 2023-24 की पहली तिमाही (Q1) में ट्रेजरी बिल जारी करने के माध्यम से साप्ताहिक उधारी 32,000 करोड़ रुपये होने की उम्मीद है, इस तिमाही के दौरान 1.42 लाख करोड़ रुपये की शुद्ध ऋण होगी।
  • वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में 2.40 लाख करोड़ रुपये की शुद्ध ऋण हुई थी।
  • 91 डीटीबी के तहत 12,000 करोड़ रुपये, 182 डीटीबी के तहत 12,000 करोड़ रुपये और 364 डीटीबी के तहत 8,000 करोड़ रुपये तिमाही के दौरान होने वाली प्रत्येक साप्ताहिक नीलामी के माध्यम से जारी किए जाएंगे।
  • भारतीय रिजर्व बैंक ने सरकार के खाते में अस्थायी असंतुलन की देखभाल के लिए वित्त वर्ष 2023-24 की पहली छमाही के लिए वेज एंड मीन्स एडवांस (WMA) की सीमा 1,50,000 करोड़ रुपये तय की है।

विषय: अंतर्राष्ट्रीय समाचार

12. सऊदी अरब एक संवाद भागीदार के रूप में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में शामिल हो गया है।

  • 29 मार्च को सऊदी अरब की कैबिनेट ने शंघाई सहयोग संगठन में शामिल होने के फैसले को मंजूरी दी।
  • इसके साथ ही सऊदी अरब भारत, चीन और रूस के समूह में शामिल हो गया है, जिसमें पाकिस्तान भी शामिल है।
  • अमेरिकी सुरक्षा चिंताओं के बावजूद सऊदी अरब ने चीन के साथ अपने संबंधों को मजबूत करना शुरू कर दिया है।
  • सऊदी अरब ने शंघाई सहयोग संगठन (SCO) में राज्य को संवाद भागीदार का दर्जा देने के लिए एक ज्ञापन को मंजूरी दे दी है।
  • SCO आतंकवाद समेत अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में भी काम करता है और चीन की कोशिश SCO के जरिए एशिया में पश्चिमी प्रभाव को रोकने की रही है।
  • सऊदी अरब SCO का डायलॉग पार्टनर बन गया है।
  • पूर्ण सदस्यता प्रदान करने से पहले संवाद भागीदार का दर्जा संगठन के भीतर पहला कदम होगा।
  • शंघाई सहयोग संगठन (SCO):
    • एससीओ चीन, भारत और रूस सहित अधिकांश यूरेशिया में फैले 8 देशों का एक राजनीतिक और सुरक्षा संघ है।
    • इसका गठन 2001 में रूस, चीन, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, कजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान द्वारा किया गया था, बाद में भारत और पाकिस्तान इसमें शामिल हो गए।
    • अफगानिस्तान, बेलारूस, ईरान और मंगोलिया चार पर्यवेक्षक राज्य हैं।
    • एससीओ के संवाद भागीदारों में आर्मेनिया, अज़रबैजान, कंबोडिया, मिस्र, नेपाल, कतर, सऊदी अरब, श्रीलंका और तुर्की शामिल हैं।
    • एससीओ की आधिकारिक कामकाजी भाषाएं चीनी और रूसी हैं।
    • इसका मुख्यालय बीजिंग, चीन में स्थित है।
    • भारत 9 जून 2017 को SCO का पूर्ण सदस्य बना।
    • ईरान ने 2022 में पूर्ण सदस्यता दस्तावेजों पर भी हस्ताक्षर किए।
    • पिछले साल, उज्बेकिस्तान के समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया था, जिसमें भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाग लिया था।

Current Affairs Varshikank 2023

विषय: अंतर्राष्ट्रीय समाचार

13. ऑस्ट्रेलिया ने सबसे बड़े प्रदूषकों को अपने उत्सर्जन में कटौती करने के लिए एक कानून पारित किया।

  • ऑस्ट्रेलियाई संसद ने सबसे बड़े ग्रीनहाउस गैस प्रदूषकों के उत्सर्जन को कम करने के लिए एक कानून पारित किया है।
  • इस विधेयक के अनुसार, सबसे बड़े ग्रीनहाउस गैस प्रदूषकों को अपना उत्सर्जन कम करना होगा या कार्बन क्रेडिट के लिए भुगतान करना होगा।
  • प्रशासन के अनुसार, 2005 के स्तर से 2030 तक उत्सर्जन को 43% तक कम करने के लक्ष्य तक पहुँचने के लिए सुरक्षा तंत्र आवश्यक हैं।
  • नया सुधार 1 जुलाई से प्रभावी हो जाएगा। यह ऑस्ट्रेलिया की 215 सबसे अधिक प्रदूषण फैलाने वाली सुविधाओं के उत्सर्जन को प्रतिबंधित करेगा।
  • यह प्रदूषण फैलाने वाली सुविधाओं को हर साल अपने उत्सर्जन को 4.9% कम करने या कार्बन क्रेडिट के साथ लक्ष्य तक पहुंचने के लिए मजबूर करेगा।
  • ऑस्ट्रेलिया ने 2012 में कार्बन टैक्स लगाया था लेकिन 2014 में कंज़रवेटिव सरकार द्वारा इसे निरस्त कर दिया गया था।
  • सीनेट ने इस विधेयक के पक्ष में 32 और विपक्ष में 26 मत पारित किए। इसे माइनर ग्रीन्स पार्टी और असंबद्ध विधायकों का समर्थन मिला।
  • उत्सर्जन पर प्रतिबंध ऑस्ट्रेलिया में प्रस्तावित 58 नई कोयला और गैस परियोजनाओं पर रोक लगा सकता है।
  • ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने कहा है कि इस तंत्र के बिना, ऑस्ट्रेलिया 2030 तक केवल 35% तक उत्सर्जन को कम करने में ही सक्षम होगा।

विषय: भारतीय अर्थव्यवस्था

14. सरकार ने दुर्लभ बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाओं और भोजन पर बुनियादी सीमा शुल्क में पूर्ण छूट दी।

  • सरकार ने दुर्लभ बीमारियों के इलाज के लिए निजी उपयोग के लिए आयातित सभी दवाओं और भोजन पर बुनियादी सीमा शुल्क में पूर्ण छूट दी है।
  • आयात शुल्क में छूट 1 अप्रैल से लागू हो जाएगी।
  • सरकार ने पेम्ब्रोलिज़ुमाब (कीट्रूडा) को भी बुनियादी सीमा शुल्क से पूर्ण छूट दी है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कैंसर के उपचार में किया जाता है।
  • केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय दुर्लभ रोग नीति 2021 के तहत सूचीबद्ध सभी दुर्लभ रोगों के उपचार के लिए आयातित औषधियों व खाद्य सामग्रियों को सीमा शुल्क से पूरी छूट दी है।
  • आम तौर पर दवा पर सीमाशुल्क दस फीसदी होती है, जबकि जीवन रक्षक दवाओं और वैक्सीन की कुछ श्रेणियों के लिए यह पांच फीसदी या शून्य होती है।
  • विशेष चिकित्सा प्रयोजनों के लिए भोजन का उपयोग दुर्लभ बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को पोषण संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए किया जाता है।
  • इस छूट का लाभ उठाने के लिए, आयातक को केंद्रीय या राज्य निदेशक स्वास्थ्य सेवा या जिले के जिला चिकित्सा अधिकारी/सिविल सर्जन द्वारा प्राप्त प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा।
  • सरकार पहले से ही स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी या डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के इलाज के लिए दवाओं को छूट दे रही है।
  • इन छूटों से दुर्लभ बीमारियों के इलाज की लागत में कमी आएगी, जो 10 लाख रुपये से लेकर 1 करोड़ रुपये प्रति वर्ष से अधिक तक हो सकता है।
  • बुनियादी सीमा शुल्क (BCD): यह सीमा शुल्क अधिनियम, 1962 के तहत लगाया जाने वाला एक प्रकार का आयात शुल्क है। यह एक विशिष्ट दर पर माल के मूल्य पर लगाया जाता है।
Related Study Material
Evolution and History of the Indian Constitution Preamble of the Indian Constitution
Major sources of Indian Constitution President of India
Ramsar sites of India 2022 Classification of Rocks
Interior of the Earth Tax system in India
 
 

 

 

0
COMMENTS

Comments


Share Blog


x